Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

नए नियमों से फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स खफा

प्रकाशित Tue, 04, 2018 पर 08:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एफपीआई यानि फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स ने सेबी के डिस्क्लोजर नियमों का विरोध कर रहे है। नए नियमों के तरह 31 दिसंबर तक केवाईसी पूरा करने का निर्देश दिया गया है। यही नहीं सेबी ने एनआरआई को एफपीआई फंड्स के मालिकाना हक से बेदखल करने के लिए नियम भी सख्त किए हैं।


फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स सेबी के केवाईसी नियमों के खिलाफ एकजुट हो गए हैं। सेबी ने एफपीआई को 31 दिसंबर तक केवाईसी पूरा करने को कहा है। एएमआरआई के मुताबिक केवाईसी के चलते एफपीआई निवेश घटने का डर है। एनआरआई एफपीआई के तौर पर निवेश नहीं कर सकते। हालांकि एनआरआई एफपीआई के इन्वेस्टमेंट मैनेजर के तौर पर काम कर सकते हैं। केवाईसी आने से एनआरआई के 75 अरब डॉलर का निवेश अवैध घोषित हो सकता है। 75 अरब डॉलर के शेयर बिकने से रुपये और बाजार दोनों पर असर होगा। एफपीआई सेबी से सर्कुलर वापस लेने की मांग कर रहे हैं।


इस खबर पर सेबी ने सफाई पेश करते हुए कहा है कि कि नए नियमों से 75 अरब का डॉलर का एफपीआई निवेश बाहर जाने की बात गलत है। बात को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है।