Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

फॉरेन इनवेस्टर्स ने बाजार से निकाले 3207 करोड़ रुपये

फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टर्स यानी एफपीआई ने अप्रैल में 16,093 करोड़ रुपये, मार्च में 45,981 रुपये और फरवरी में 11,182 करोड़ रुपये निवेश किये थे।
अपडेटेड May 12, 2019 पर 15:59  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चुनावी समर बेला में सियासी गलियारे पर भले ही आएगा तो मोदी नारा बुलंद हो,  लेकिन इस नारे से भी फॉरेन इनवेस्टर्स पर कुछ खास असर नहीं दिख रहा है। शायद यही वजह है कि अब तक फॉरेन इनवेस्टर्स ने तीन महीने में जितनी बाजार में पूंजी झोंकी थी, उसमें मई के महीने में केवल 7 दिन में 3207 करोड़ रुपये निकाल लिये हैं।
शायद यूएस-चीन ट्रेड वॉर और चुनाव परिणामों की अनिश्चितता से फॉरेन इनवेस्टर्स कन्फ्यूजन में नजर आ रहे हैं। 


इसके पहले फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टर्स यानी एफपीआई ने अप्रैल में 16,093 करोड़ रुपये, मार्च में 45,981 रुपये और फरवरी में 11,182 करोड़ रुपये निवेश किये थे।


ताजा डिपोजिटरी डाटा के मुताबिक, एफपीआई निवेशकों ने 2 से 10 मई के बीच 1,344.72 करोड़ इक्विटी में निवेश किया, लेकिन डेट मार्केट से 4,55.20 करोड़ रुपये निकाल लिये। इस प्रकार से शुद्ध रूप से 4,55.20 करोड़ रुपये निकाले गए।


आपको बता दें कि महाराष्ट्र दिवस के उपलक्ष्य में 1 मई को बाजार बंद था। 
बजाज कैपिटल के सीनियर वीपी और इनवेस्टमेंट एनालिटिक्स के हेड आलोक अग्रवाल ने कहा कि भारत में लॉन्ग टर्म की ग्रोथ के लिए संभावनाएं बनी हुई हैं, लेकिन हमने मई में शॉर्ट टर्म की चुनौतियां देखने को मिली हैं।


फॉरेन इनवेस्टर्स ने पिछले तीन महीने से इंडियन मार्केट में खूब खरीदारी की है। कई विकसित देशों के सेंट्रल बैंक ने अपनी मैंडेटरी पॉलिसी में रुख बदल दिया है। जिससे पूरी दुनिया में लिक्विडिटी में सुधार हुआ है।


 हालांकि ग्रो डॉ इन के सीओओ हर्ष जैन ने कहा कि, यूएस-चीन ट्रेड वॉर के बीच बढ़ते तनाव चुनाव के नतीजों के लेकर अनिश्चितता से इस महीने बाजार से पैसे निकाले गए।