Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

खाने के तेल में कम होगा ट्रांस फैट

प्रकाशित Sat, 10, 2018 पर 14:19  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फूड रेगुलेटर एफएसएसएआई आपकी सेहत के लिए एक और पहल करने जा रहा है। जल्द ही खाने के तेल में ट्रांस फैट की मात्रा और कम कर दी जाएगी। ट्रांस फैट का ज्यादा इस्तेमाल आपकी सेहत के लिए हानिकारक होता है। आखिर ये है क्या और आपकी सेहत को कैसे प्रभावित करता है, आइए जानते हैं।


एफएसएसएआई वनस्पति तेल में मौजूद ट्रांस फैट की मात्रा को 5 फीसदी से घटाकर 2 फीसदी करने जा रहा है। इसके लिए एफएसएसएआई ने तेल बनाने वाली कंपनियों से बात भी शुरू कर दी है। ट्रांस फैट से सेहत पर पड़ने वाले निगेटिव असर की वजह से ऐसा किया जा रहा है। दुनिया में अलग-अलग देशों में हुई मेडिकल स्टडी से साबित हुआ है कि ट्रांस फैट का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल सेहत के लिए खतरनाक है।


ट्रांस फैट शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढ़ाता है और गुड कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम कर देता है। इसलिए इसके ज्यादा इस्तेमाल से दिल की बीमारी और हार्ट स्ट्रोक का खतरा काफी बढ़ जाता है। ट्रांस फैट के ज्यादा इस्तेमाल से टाइप टू डायबिटीज का खतरा 40 फीसदी तक बढ़ जाता है। साथ ही इंसुलिन और ग्लूकोज फंक्शन पर भी बुरा असर पड़ता है। वनस्पति बनाने वाली कंपनियों का कहना है कि वो सरकार के साथ हैं लेकिन उन्हें और वक्त चाहिए।


दुनिया के कई विकसित देशों ने ट्रांस फैट पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। भारत में भी पिछले साल इसकी सीमा 10 फीसदी से कम करके 5 फीसदी कर दी गई थी। अब इसके 2 फीसदी होने के बाद उम्मीद है कि लाइफस्टाइल बीमारियों पर थोड़ी लगाम लगेगी।