Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

21 के हो गए Google गुरू, जानिए Google की दिलचस्प कहानी!

गूगल 2006 में, डिक्शनरी में एक क्रिया यानि VERB के तौर पर दर्ज किया जा चुका है।
अपडेटेड Sep 30, 2019 पर 09:44  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

27 सितंबर को हम सबके महागुरू गूगल का जन्मदिन था। आज किसी भी सवाल का एक जवाब है - गूगल कर लो। तो गूगल एक ऐसी क्रिया है जो आपको जनरल नॉलेज से लेकर नेवीगेशन तक और मौसम के हाल लेकर फ्लाइट टिकट के दाम तक सबकुछ बता सकती है। जी हां गूगल 2006 में, डिक्शनरी में एक क्रिया यानि VERB के तौर पर दर्ज किया जा चुका है। सोचना पड़ेगा कि क्या हमारी दिनचर्या में किसी और चीज की इस हद तक दखल है? दुनिया की हर कहानी बता सकता है गूगल। मगर क्या आप जानते हैं कि गूगल की अपनी कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है।


21 वीं सालगिरह पर गूगल ने अपने शुरुआत की कहानी को डूडल की शक्ल में पेश किया है। इसमें एक भारी भरकम कंप्यूटर पर सर्च इंजन का पेज और 27 सितंबर 1998 की तारीख दिख रही है। गूगल के फाउंडर - लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन अमेरिका की स्टैंनफोर्ड यूनिवर्सिटी के PHD स्कॉलर थे और उन्होंने सर्च इंजन पर एक रिसर्च पेपर तैयार किया था, जो गूगल की बुनियाद बना। कहते हैं कि एक छोटे से गराज शुरु हुई गूगल की कहानी पर शुरू में निवेशकों ने भरोसा नहीं किया। लेकिन कुछ ही दिनों में 1 लाख डॉलर का पहला फंड मिल गया और 1998 में कंपनी बनी।


दिलचस्प है कि गूगल के शुरूआती एंजेल इंवेस्टर्स में अमेजॉन के फाउंडर जेफ बेजॉस भी शामिल थे। एक साल तक गूगल डॉट कॉम का बीटा वर्जन टेस्ट करने के बाद 21 सितंबर 1999 को वो गूगल डॉट कॉम सामने आया जिसपर आज हम कुछ भी, जी हां कुछ भी खोजने के लिए जाते हैं। 2004 में कंपनी अपना IPO लेकर आई। आज गूगल की परेंट कंपनी अल्फाबेट इंक सैकड़ों अरब डालर की कंपनी बन चुकी है। अल्फाबेट की छतरी में जी मेल, क्रोम, यूट्यूब, ब्लॉगर, एनड्रॉयड जैसे सैकड़ों टॉप ब्रांड्स, प्रोडक्ट्स और सब्सिडियरी कंपनियां हैं।


गूगल जैसी सफलता को कारोबार, वैल्यूएशन और कमाई के दायरे से बाहर रखकर ही देखना चाहिए। भारत के लोग इस बात पर नाज करते हैं गूगल का CEO सुंदर पिचाई एक भारतीय है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गूगल के हेडक्वार्टर गए थे। दरअसल, इंटरनेट की आभाषी दुनिया में हर नेटिजन रोज कई बार गूगल की गलियों से गुजर रहा है तो नई वैश्विक अर्थव्यवस्था में गूगल वो सपना है जिसे हर देश हासिल करना चाहता है।


Google की 21वीं वर्षगांठ


Google 27 सितंबर को मनाता है बर्थडे। Google के बर्थडे को लेकर कंफ्यूजन है। 2006 से 27 सितंबर को बर्थेडे डूडल दिखता है। पहले 7 सितंबर, 8 सितंबर को डूडल दिखता था।


Google की दिलचस्प बातें


Google का नाम Googol से लिया गया है। Googol का मतलब है 1 के पीछे 100 शून्य। इसकी शुरुआत छोटे से गराज से 4GB के हार्ड डिस्क के साथ हुई थी। गूगल 1 सेकेंड में लाखों पेज सर्च करता है। ये बकरियों से लॉन की घास चरवाता है। इसका औसतन हफ्ते में एक कंपनी के अधिग्रहण का रिकॉर्ड है। foo.bar से कर्मचारियों की नियुक्ति होती है। foo.bar देखता है कि आप क्या सर्च करते हैं। 2006 में Google डिक्शनरी का शब्द बना। डिक्शनरी में Google एक क्रिया ( Verb) है।


Google के प्रोडक्ट


Google Search, Google Images, Youtube, Google News, Google Finance, Google Shopping, Google Books, Google Patents, Google Scholar, Google Dataset Search, Hotel Finder, Google Alerts, Assistant, Google Flights, Google Groups, Google Translate. गूगल के प्रोडक्ट पोर्टफोलियो में 27 कम्युनिकेशन, पब्लिशिंग टूल्स, 3 सिक्योरिटी टूल, 11 मैप टूल्स, AdSense जैसी 6 एडवर्टाइजिंग सर्विस, 9 डाटा एनालिसिस सर्विसेस, 7 तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम, 16 डेस्कटॉप एप्लिकेशन, 21 मोबाइल वेब एप्लिकेशन, 31 मोबाइल स्टैंडअलोन ऐप, 41 हार्डवेयर प्रोडक्ट हैं।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।