Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

'सरकारी कर्मचारियों को वेतन देने के लिए अगले महीने सरकार को लेना पड़ सकता है कर्ज'

सरकारी तिजोरी खाली होती जा रही है और अब हाल ये है कि अगले महीने सरकार के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा।
अपडेटेड Jul 03, 2020 पर 10:57  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना की वजह से उद्योग-धंधे बंद होने से सरकार को प्राप्त होने वाले राजस्व में भारी कमी आई है। इसकी वजह से सरकारी तिजोरी खाली होती जा रही है और अब हाल ये है कि अगले महीने सरकार के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। सरकारी कर्मचारियों का वेतन देने के लिए सरकार को कर्ज भी लेना पड़ सकता है ऐसी चिंता महाराष्ट्र के मदद एवं पुनर्वसन मंत्री विजय वडेट्टीवार ने पुणे में संपन्न प्रेस कॉन्फ्रेंस में व्यक्त की।


प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए वडेट्टीवार ने कहा कि कोरोना के कारण सरकारी राजस्व में कमी आई है। जिसकी वजह से अगले महीने में कर्मचारियों को वेतन देने के लिए लोन लेना पड़ सकता है। इसके साथ ही मदद एवं पुनर्वसन, स्वास्थ्य और अन्य दो विभागों को छोड़कर बाकी विभागों में वेतन कटौती की नौबत आ गई है। हालांकि डॉक्टर, नर्स और उनसे संबंधित कोरोना योद्धाओं को वेतन दिया जायेगा ये भी उन्होंने स्पष्ट किया।


उन्होंने आगे कहा कि कोरोना वायरस के कारण राज्य में उद्योग कारोबार चलाना कठिन हो गया है। इसकी वजह से राज्य की आर्थिक स्थिति बहुत गंभीर हो गई है। केंद्र सरकार ने आर्थिक पैकेज का एक भी पैसा अभी तक नहीं दिया है। इसलिए गंभीर परिस्थिति को देखते हुए राज्य को केंद्र द्वारा शीघ्र ही मदद मिलनी चाहिए। लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है।


लोकसत्ता में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने कहा कि राज्य की सहायता करने की बजाय कुछ लोग सरकार पर टिप्पणी कर रहे हैं। जिन्होंने मुख्यमंत्री सहायता निधि में मदद करने का आवाहन करने की बजाय प्रधानमंत्री निधि में मदद करने की अपील की है उन्हें राज्य सरकार के खिलाफ बोलने का कोई अधिकार नहीं है। इन शब्दों में मंत्री वडेट्टीवार ने राज्य के भाजपा नेताओं पर निशाना साधा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।