Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

सरकार का डिफेंस में FDI बढ़ाने का फैसला, जानिए किन सरकारी कंपनियां में आज दिखेगा भरपूर एक्शन

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन की और से डिफेंस सेक्टर को बड़ा बूस्ट दिया है। सरकार ने ऑटोमैटिक रूट से FDI सीमा 49% से बढ़ाकर 74% करने का एलान किया है।
अपडेटेड May 18, 2020 पर 13:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पीएम द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज के चौथे चरण का विवरण देते हुए शनिवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन की और से डिफेंस सेक्टर को बड़ा बूस्ट दिया है। सरकार ने ऑटोमैटिक रूट से FDI सीमा 49% से बढ़ाकर 74% करने का एलान किया है। सरकार का डिफेंस प्रोडक्शन पर खास जोर देते हुए कहा कि डिफेंस सेक्टर में मेक इन इंडिया पर फोकस होगा।


डिफेंस सेक्टर के हथियारों की लिस्ट तैयार होगी। डिफेंस उपकरणों का स्वदेशीकरण किया जाएगा। डिफेंस उपकरणों को देश में बनाने की पहल होगी। चुनिंदा हथियारों की खरीद सिर्फ सरकार करेगी। कुछ डिफेंस प्रोडक्ट के इंपोर्ट पर रोक लगाई जाएगी।


इससे डिफेंस इंपोर्ट में कमी लाने में मदद मिलेगी और हथियारों को लेकर विदेशों पर निर्भरता घटेगी। इंपोर्ट न करने वाले हथियारों की लिस्ट बनेगी। डिफेंस में FDI सीमा 49 फीसदी से बढ़ाकर 74 फीसदी करेंगे। ऑटोमेटिक रूट से डिफेंस में FDI सीमा बढ़ेगी।


क्या कहती है NOMURA की रिपोर्ट


इधर दिग्गज ब्रोकरेज हाउसेस NOMURA ने भी अपनी रिपोर्ट में सरकार द्वारा डिफेंस सेक्टर के लिए उठाए गए कदमों की तारीफ की है। NOMURA का कहना है कि PSUs, डिफेंस पर सरकार के कदम काफी बड़े है। सरकार के फैसले से सरकारी कंपनियों को भारी फायदा होगा। निजीकरण से विदेशी कंपनियां भारत में आएंगी और भारतीय कंपनियों के साथ पार्टनरशिप भी बढ़ेगी। विदेशी कंपनियां आने से भारतीय कंपनियों की टेक्नोलॉजी भी बढ़ेगी।


इन सरकारी कंपनियों में दिख सकता है एक्शन


डिफेंस सेक्टर को मिले बूस्टर डोज से आज BEML, Midhani,ITI,Garden Reach, CochiShipyard, BDL, HAL, BalmerLauri, SCI, DREDGING और MOIL जैसे कंपनियों में एक्शन दिख सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।