Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Covid-19 के मामले बढ़ते रहने पर आगे बढ़ानी पड़ सकती है रिटर्न भरने की तारीख: एक्सपर्ट

एक्सपर्ट्स का मानना है कि Covid-19 के फैलाव की बढ़ती संख्या के बीच IT विभाग को अतिरिक्त उपाय करने पड़ सकते हैं.
अपडेटेड Jul 06, 2020 पर 16:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

टैक्स एक्सपर्ट्स का मानना है कि Covid-19 के फैलावा की बढ़ती संख्या के बीच IT विभाग को अतिरिक्त उपाय करने पड़ सकते हैं और कर कानूनों के अनुपालन में टैकस पेयर्स को राहत देने  के लिये टाइमलाइन को आगे बढ़ाना पड़ सकता है। 


हालांकि टैक्स एक्सपर्ट्स इस महामारी के कारण उत्पन्न अभूतपूर्व परिस्थिति में करदाताओं को राहत देने के लिये फाइनेंस मिनिस्ट्री की तरफ से उठाए गए विभिन्न कदमों का स्वागत किया। लेकिन इसके साथ उन्होंने ये भी कहा कि कि जब सबकुछ नार्मल नहीं हो जाता, कुछ अतिरिक्त उपाय किये जाने की जरूरत है। इन तमाम उपायों के तहत IT विभाग  ने महामारी से लड़ने के लिए बार-बार लगाए गए लॉकडाउन के समय भी करदाताओं को राहत देने के लिये विभिन्न टाइमलाइंस को आगे बढ़ाया है।


CEO AMRG & Associates गौरव मोहन ने 31 मार्च को सरकार द्वारा ब्याज राहत तथा टाइम लाइन को बढ़ाने के जरिए दी गई राहत को लेकर कहा, मौजूदा स्थिति को देखते हुए, इकोनॉमी को चालू रखने के लिये टैक्स पेयरों को राहत देने के लिए ज्यादा से ज्यादा उपाय करने की जरूरत है।


गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के मामले 6.5 लाख से ज्यादा हो गए हैं और टीका विकसित होने या स्थिति सामान्य होने में महीनों लग सकते हैं।


टैक्समैन के डीजीएम नवीन वाधवा ने कोरोना के मद्देनजर रिटर्न भरने की समयसीमा बढ़ाने के सरकार के निर्णय पर कहा, सभी करदाताओं के लिये वित्त वर्ष 2019-20 के रिटर्न भरने की समयसीमा को 31 जुलाई और 31 अक्टूबर 2020 के स्थान पर 30 नवंबर 2020 तक के लिये बढ़ा दिया गया है। अत: जिन करदाताओं को पहले 31 जुलाई या 31 अक्टूबर 2020 तक आईटीआर भरना था, वे अब बिना लेट फी के 30 नवंबर 2020 तक रिटर्न भर सकते हैं।


अगर सेल्फ असेसमेंट टैक्स लायबिलिटी 1 लाख रुपये के अंदर रहती है और 30 नवंबर की ड्यू डेट तक रिटर्न फाइल कर दिया जाता है तो टैक्स पेयर को कोई ब्याज नहीं देना होगा। हालांकि सेल्फ असेसमेंट टैक्स लायबिलिटी 1 लाख रुपये से ज्यादा होने पर टैक्स पेयर को ओरिजन ड्यूडेट की एक्सपायरी तिथि से Income-tax Act के section 234A के तहत  ब्याज चुकाना होगा।





सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।