Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जीएसटी: नए टैक्स युग का आगाज

1 जुलाई 2017 यानी आज से देश जीएसटी युग में प्रवेश कर गया है।
अपडेटेड Jul 01, 2017 पर 11:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

1 जुलाई 2017 यानी आज से देश जीएसटी युग में प्रवेश कर गया है। कल रात संसद भवन के सेंट्रल हॉल में एक भव्य समारोह में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी लॉन्च करने की घोषणा की। संसद के सेंट्रल हॉल में प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने ज्यों ही जीएसटी लागू करने का एलान किया। इस मौके को पूरे देश में जश्न के तौर पर मनाया गया।


घड़ी की सुइयों के 12 बजते ही घंटी बजी और देश में टैक्स सुधार के इस नए युग की शुरुआत हो गई। सेंट्रल हॉल में हुए समारोह में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, सरकार के तमाम मंत्री, लोकसभाध्यक्ष, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा और कई बड़ी हस्तियां मौजूद थीं। हालांकि कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल और वामपंथी पार्टियों समेत कई विपक्षी दलों ने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया। हालांकि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जीएसटी लॉन्च करने के मौके पर उन दिनों को याद किया, जब वित्त मंत्री के तौर पर उन्होंने जीएसटी के लिए संसद में बिल पेश किया था। उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू होने की उन्हें व्यक्तिगत तौर पर बहुत खुशी है।


प्रधानमंत्री ने जीएसटी को एक नया नाम भी दिया। उन्होंने कहा कि जीएसटी का मतलब है गुड एंड सिंपल टैक्स। उन्होंने इसे आर्थिक रिफॉर्म का बड़ा कदम बताया। उन्होंने जीएसटी को सभी पार्टियों की साझा कोशिशों का नतीजा बताया। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये सभी दलों की साझी विरासत है। जीएसटी में टैक्स रिटर्न और दूसरी उलझनों का हवाला देने वालों को भी प्रधानमंत्री ने जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि टैक्स रिटर्न इतने आसान हैं कि स्कूलों के बच्चे भी भर सकते हैं इसलिए ऐसी आलोचना ठीक नहीं है।


इस मौके पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी को सबसे बड़ा सुधार बताया और उम्मीद जताई कि केंद्र और राज्य मिलकर विकास की नई इबारत लिखेंगे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि जीएसटी से ऐसे राज्य को ज्यादा फायदा होगा जो आर्थिक रूप से पिछड़े हुए हैं, उन्हें भी विकास के लिए ज्यादा संसाधन उपल्ब्ध होंगे। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि पेट्रोलियम प्रोडक्ट को जल्द से जल्द जीएसटी के तहत लाया जाएगा।


वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि इनपुट क्रेडिट का फायदा लोगों को मिलेगा। प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि शुरू में लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन जैसे-जैसे जीएसटी अमल में आएगी वैसे-वैसे इसे समझने में और आसानी होगी। विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने कहा कि जीएसटी से एविएशन सेक्टर को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं, बिहार के पूर्व वित्त मंत्री सुशील मोदी ने कहा कि देश में परिस्थितियों को देखते हुए जीएसटी में अलग-अलग टैक्स स्लैब बनाए गए।


मार्केट एक्सपर्ट अजय बग्गा का कहना है कि जीएसटी आने के बाद अब लोगों को ट्रांजैक्शन छुपाना मुश्किल हो जाएगा जिससे काले धन पर रोक लगेगा। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वी के शर्मा का कहना है कि जीएसटी लागू होने के बाद शुरुआती दिनों में कुछ दिक्कतें आ सकती है।