Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ट्रैवल एंड टूरिज्म को जल्द राहत संभव

प्रकाशित Thu, 06, 2018 पर 09:25  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ट्रेवल और टूरिज्म इंडस्ट्री को जल्द ही जीएसटी में राहत मिल सकती है। वित्त मंत्रालय एक सफाई जारी करने वाला है जिसके बाद कारोबारियों को अलग अलग राज्यों में होने वाले खर्चे का अलग अलग हिसाब नहीं रखना होगा। इनपुट टैक्स क्रेडिट लेना भी आसान हो जाएगा।


ट्रेवल और टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए जीएसटी से जुड़ी कागजी कार्रवाई ही आसान होने वाली है। और इनपुट टैक्स क्रेडिट पाना भी आसान होने वाला है।


सूत्रों के मुताबिक अब किसी टूर पैकेज में एक से ज्यादा राज्य घूमने वाले विदेशी टूरिस्ट का अलग-अलग राज्यों का हिसाब-किताब नहीं दिखाना होगा, अब एकमुश्त खर्चा दिखाया जा सकेगा और घरेलू टूरिस्ट की तरह इसके आधार पर इनपुट टैक्स क्रेडिट भी क्लेम किया जा सकेगा।


सूत्रों के मुताबिक वित्त मंत्रालय इस बारे में जल्द ही सफाई जा करने वाली है। लेकिन टूरिज्म इंडस्ट्री सिर्फ इससे संतुष्ट नहीं है, बल्कि इंडस्ट्री के लिए जीएसटी दर 5 फीसदी रखने की मांग कर रही है।


डॉलर के मुकाबले रुपए के उतार चढ़ाव के चलते भी इंडस्ट्री को जीएसटी चुकाने में समस्या का सामना करना पड़ रहा है। विदेशी सैलानी से एडवांस मिलने के साथ ही एजेंट टैक्स का एक हिस्सा चुका देता है। और फिर इन्वॉयस, जारी करने के दौरान एक हिस्सा चुकाता है। समस्या ये है कि अगर डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत में अंतर होता है तो जीएसटी किस कीमत पर चुकाया जाएगा।इस समस्या से निपटने के लिए अभी वित्त मंत्रालय समीक्षा कर रहा है।