Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

223 करोड़ के भूमि घोटाले में हाउसिंग सोसाइटी का चेयरमैन गिरफ्तार

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि ACB निधियों और धनराशि को खोजने में सफल रही है और 187 करोड़ रुपये को फ्रीज किया गया है।
अपडेटेड May 20, 2020 पर 10:45  |  स्रोत : Moneycontrol.com

एंटी-करप्शन ब्यूरो (ACB) ने झेलम को-ऑपरेटिव हाउस बिल्डिंग सोसाइटी (JCHBS) के अध्यक्ष को 223 करोड़ रुपये के भूमि घोटाले में गिरफ्तार किया है जिसमें श्रीनगर की जम्मू-कश्मीर स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक की संलिप्तता है। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि ACB निधियों और धनराशि को खोजने में सफल रही है और 187 करोड़ रुपये को फ्रीज किया गया है।


J & K को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड के अध्यक्ष, मोहम्मद शफी डार ने अधिकारियों और एक गैर-मौजूद सहकारी हाउस बिल्डिंग सोसाइटी के एक लाभार्थी के साथ मिलकर शिवपोरा, श्रीनगर स्थित हिलाल अहमद मीर द्वारा संचालित रीवर झेलम को-ऑपरेटिव हाउस कॉलोनी के नाम पर धोखाधड़ी से 223 करोड़ रुपये की राशि मंजूर की थी। ये आरोप लगने के बाद एसीबी, जम्मू द्वारा प्रारंभिक जांच की गई थी।


जांच से पता चला कि जेसीएचबीएस के तथाकथित अध्यक्ष ने सहकारी समितियों के प्रशासन विभाग के सहकारिता सचिव के पास एक आवेदन किया था जिसमें उन्हें एक सैटेलाइट टाउनशिप का निर्माण करने के लिए श्रीनगर के बाहरी इलाकों में स्थित 300 कनाल भूमि पर कब्जा करने के लिए जेएंडके को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड को 300 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए निर्देश दिए गये थे ऐसा प्रवक्ता ने बताया।


प्रवक्ता ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को-ऑपरेटिव बैंक ने सोसाइटी की बैलेंस शीट, लाभ और हानि खाता, आयकर रिटर्न, बोर्ड प्रस्तावोँ के विवरण प्राप्त करने की औपचारिकताओं का पालन किये बिना 223 करोड़ रुपये का कर्ज मंजूर कर लिया। 


जांच के दौरान यह मालुम हुआ है कि रीवर झेलम को-ऑपरेटिव हाउस बिल्डिंग सोसाइटी, जम्मू कश्मीर के को-ऑपरेटिव सोसाइटी के साथ पंजीकृत भी नहीं है। आरोपी मीर ने जेएंडके को-ऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन और अन्य के साथ मिलकर सोसाइटी के नाम से गलत और काल्पनिक पंजीकरण प्रमाणपत्र बनाया और सोसाइटी के नाम पर 223 करोड़ रुपये का लोन मंजूर करवा लिया।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।