Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कोरोना काल में बाजार में जुड़े नए निवेशक, नए रीटेल इंवेस्टरों की संख्या दोगुनी तक बढ़ी

लॉकडाउन इंवेस्टर के लिए मार्केट में एंट्री करने का अच्छा मौक़ा रहा और इस दौरान नए रीटेल इंवेस्टर की संख्या भी दोगुनी रही
अपडेटेड Jul 15, 2020 पर 08:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्च तिमाही में गिरावट के बाद जून तिमाही में शेयर बाजार में रिकवरी देखने को मिली हैं ऐसे में लॉकडाउन नए इनवेस्टर के लिए मार्केट में एंट्री करने का अच्छा मौक़ा रहा और इस दौरान नए रीटेल इनवेस्टर की संख्या भी दोगुनी रही। लॉकडाउन के दौरान शेयर मार्केट निवेशकों की पहली पसंद रहा। अकड़ों के अनुसार लॉकडाउन के महीनो में नए रीटेल इनवेस्टर की संख्या दोगुनी तक बढ़ी हैं। डीमैट और शेयरों में इलेक्ट्रॉनिक ट्रांजेक्शन की सेवा मुहैया करवाने वाली सेन्ट्रल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड यानी CSDL के आंकड़ों के मुताबिक जहां इस साल जनवरी मे कुल साढ़े 4 लाख नए डीमैट अकाउंट खुले थे, वही जून में साढ़े 8 लाख नए डीमैट अकाउंट खुले।


आंकड़े ये भी बताते हैं कि ख़ास लॉकडाउन के महीने जैसे मार्च और अप्रैल मे 40 फीसदी ज्यादा डीमैट अकाउंट खुले। शेयर मार्केट में हिस्सा लेने के लिए डीमैट खाते का होना अनिवार्य है। निवेशक इसी के ज़रिए मार्केट से शेअर ख़रीद या बेच सकते हैं । डिमेट अकाउंट के लिए SEBI के साथ रजिस्टर्ड ब्रोकर आपकी मदद करते हैं। लॉकडाउन के दौरान ब्रोकिंग कंपनियों  ने भी ऑनलाइन पर अपना फ़ोकस बढ़ाया। 700 से ज़्यादा शाखाओं वाली IIFL Securities ने लॉकडाउन में App के ज़रिए बड़ी तादाद में नए कस्टमर जोड़े। Edelweiss ग्रुप ने अपनी online अकाउंट ओपनिंग  में इस दौरान 50 फीसदी का उछल देखा हैं।
 
राहुल जैन, हेड, Edelweiss Wealth Management का कहना है कि Online trading में पिछले quarter के मुक़ाबले 70 फीसदी ग्रेोथ आया हैं, mobile application के downloads भी इस दौरान डबल हुए हैं। हमारे मंथली एक्टिव  यूजर्स भी 30 फीसदी बढ़ गए हैं।  
वहीं बात करें Zerodha जैसे ब्रोकर्स की तो यहां भी रोज़ाना क़रीब 1 लाख अकाउंट खुले इस ज़बर्दस्त रीटेल पार्टिसिपेशन के पीछे मार्केट के जानकार तीन बड़े कारण मानते हैं। इंवेस्टर के पास अपने इंवेस्टमेंट के लिए ज्यादा वक़्त, स्टॉक के अच्छे वैल्यूएशन और सेबी की तरफ़ से ऑनलाइन और वीडीओ केवाईसी की प्रक्रिया में मिली रियायत।


जून तिमाही में सेंसेक्स ने 18 फीसदी तो निफ्टी ने करीब 20 फीसदी रिटर्न दिया है। ऐसे मे ये कहना ग़लत नहीं होगा कि नए निवेशकों के लिए लॉकडाउन  के समय शेयर मार्केट में एंट्री एक अच्छा फैसला साबित हुआ हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।