Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जानिए देश में कितने बढ़े करोड़पति टैक्सपेयर्स, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने जारी की लिस्ट

500 करोड़ रुपये से ऊपर की कीमाई करने वाले इंडिया के सुपर-रिच क्लब में केवल 3 लोग शामिल हैं।
अपडेटेड Oct 16, 2019 पर 12:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश में टैक्सपेयर्स का लेखा जोखा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास ही रहता है। कितने लोग टैक्स दे रहे हैं, टैक्स देने वालों की संख्या में कितना इजाफा हुआ है। ऐसी पूरी जानकारी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास ही रहती है। अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एक लिस्ट जारी की है। जिसमें करोड़पति लोगों की संख्या बताई गई है। साथ ही इस लिस्ट में कई रोचक जानकारी भी निकलकर सामने आई है।


लाइव मिटं में छपी खबर के मुताबिक, फिस्कल ईयर 2017-18 में देश में एक करोड़ रुपये से अधिक इनकम वाले 97000 लोग थे, जो टैक्स जमा कर रहे थे। Central Board of Direct Taxes (CBDT) ने इस रिपोर्ट की पूरी जानकारी डिटेल में दी है। CBDT के मुताबिक, असेस्मेंट ईयर 2018-19 या फिस्कल ईयर 2017-18 के दौरान भारत में 97689 ऐसे टैक्सपेयर थे, जिनकी सालाना इनकम 1 करोड़ रुपये से अधिक थी। इनकम टैक्स देने योग्य वाले लोगों की संख्या असेस्मेंट ईयर 2017-18 में 81,344 रही थी।


जानिए रिपोर्ट की खास बातें


1 – इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के सुपर-रिच क्लब में सालाना 500 करोड़ रुपये से अधिक कमाने वाली लिस्ट में केवल 3 लोग हैं। वो 3 लोग कौन हैं। रिपोर्ट में इनके नाम का खुलासा नहीं किया गया है।


2 – इस रिपोर्ट में दिलचस्प बात ये है कि इनकम टैक्स के आंकड़ों के मुताबिक 1.7 लाख से अधिक ऐसे लोग हैं, जिन्होंने जीरो सालाना इनकम के साथ इनकम टैक्स रिटर्न जमा किया है।


3 -  भारत में कम से कम 89,793 ऐसे लोग थे, जिनकी सालाना इनकम 1 करोड़ से 5 करोड़ के बीच है। 5 से 10 करोड़ रुपये सालान इनकम वाले ब्रैकेट में 5,132 लोग थे। जबकि 10-15 लाख रुपये सालाना इनकम वाले लोगों की संख्या 2000 से थोड़ा ज्यादा थी।


4 – अगर सैलरी ब्रेक-अप के आधार पर बात करें तो ज्यादातर टैक्सपेयर्स की सैलरी 5.5 लाख रुपये से लेकर 9.5 लाख रुपये के बीच सैलरी पाने वालों की संख्या 81 लाख से अधिक है। इस कैटेगरी में एवरेज सैलरी पाने वाले लोगों की संख्या 7.12 लाख है।


5 -  अगर सभी कैटेगरी को शामिल करके टैक्सपेयर्स पर नजर डालें तो व्यक्तिगत, HUF, कंपनी, फर्म आदि को मिला दें तो इनकी 1 करोड़ रुपये से अधिक टैक्स देने वाले लोगों की संख्या तकरीबन 1.67 लाख रही। जो कि पिछले साल के मुकाबले 19 फीसदी अधिक है।


6 – 15 अगस्त 2019 तक 5,87 करोड़ लोगों ने डिजिटल तरीके से रिटर्न फाइल किया।


7 – इस डाटा के मुताबिक, 5.52 करोड़ लोग व्यक्तिगत, 11.3 लाख लोग HUF, 12.69 लाख फर्म और 8.41 लाख कंपनियां रिटर्न फाइल करने में शामिल रहीं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।