Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

IncomeTax Return फाइल करने की तारीख बढ़ने के बावजूद वसूला जा रहा जुर्माना, जानें अब आप क्या करें

I-T विभाग के सर्वर पर यह दिक्कत तकनीकी गडबड़ी के कारण आ रही है
अपडेटेड Aug 03, 2021 पर 08:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आयकर विभाग ने व्यक्तिगत करदाताओं के लिए वित्त वर्ष 2020-21 (असेसमेंट ईयर 2021-22) के लिए आईटी रिटर्न फाइल की तिथि बढ़ाकर 30 सितंबर 2021 कर दी है। कोविड महामरी के प्रकोप के चलते यह निर्णय लिया गया है।


आईटीआर फाइल करने की तिथि में विस्तार के सरकारी ऐलान के बावजूद तमाम टैक्सपेयरों की शिकायत है कि इनकम टैक्स पोर्टल पिछले कुछ दिनों में फाइल किए रिटर्न पर 5,000 रुपये का लेट फी लगा रहा है। इस बात की शिकायत सोशल मीडिया के जरिए की जा रही है और आकर विभाग से निवेदन किया जा रहा है कि वो सर्वर से लेट फाइलिंग फी को हटा लें।


लेट फी पेनाल्टी रूल्स पर नजर डालें तो अगर कोई व्यक्ति निर्धारित तिथि के भीतर रिटर्न फाइल नहीं करता है तो उसको बकाये पर ब्याज का भुगतान करना होता है। इसके अलावा सेक्शन 23 4F के मुताबिक, लेट रिटर्न फाइलिंग पर 5,000 रुपये का मुनाफा देना होगा। लेकिन अगर किसी करदाता की कुल आय 5,0000 लाख रुपये से ज्यादा नहीं है तो उसे लेट फी के तौर पर सिर्फ 1000 रुपये देने होंगे।


अधिकांश जानकारों का कहना है कि आईटी विभाग के सर्वर पर यह दिक्कत तकनीकी गडबड़ी के कारण आ रही है या फिर आकर विभाग ने अभी तक बढ़ी हुई डेडलाइन के साथ अपने टैक्स फाइलिंग सॉफ्टवेयर को अपडेट नहीं किया है। जानकारों का कहना है कि टैक्स फाइल करने वालों को तब तक इंतजार करना चाहिए जब तक आईटी विभाग अपने सॉफ्टवेयर को अपडेट नहीं कर लेता। उसके बाद ही फाइलिंग करें।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.