Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भारत ने बुनियादी चीजों पर किया सुधार, लेकिन समस्याओं को सुलझाना भी है जरूरी: IMF

भारत को खासतौर से नॉन-बैंकिंग सेक्टर में सुधार करने की सख्त जरूरत है।
अपडेटेड Oct 18, 2019 पर 17:01  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत की सुस्त अर्थव्यवस्था पर The International Monetary Fund (IMF) ने अभी विकास दर अनुमान घटा दी थी। इसके बाद IMF ने भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। IMF का कहना है कि भारत ने बुनियादी तौर पर काफी किया है, लेकिन समस्यों को सुलझाना भी जरूरी है। IMF की नई मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा कि बैंकों को मजबूत करने के लिए केंद्र के हस्ताक्षेप से चीजों को सुलझाना होगा।
वॉशिंगटन में प्रेस कॉन्फ्रेन्स के दौरान IMF की मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा कि भारत ने अर्थव्यवस्था पर बेहतर काम किया है। लेकिन समस्याओं पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए। खास तौर से नॉन-बैंकिंग सेक्टर में सुधार करने की सख्त जरूरत है।
बता दें कि अर्थव्यवस्था में छाई सुस्ती को दूर करने के लिए फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने देश के 10 बड़े बैंकों को विलय करने की घोषणा की। सरकार ने 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने के लिए बैंकों का विलय किया।
IMF ने मंगलवार को अपने नए वर्ल्ड इकोनॉमी आउटलुक रिपोर्ट में इंडिया की ग्रोथ रेट 2019 में 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है। हालांकि उसे उम्मीद है कि 2020 में इसमें सुधार होगा। उस वक्त इकोनॉमिक ग्रोथ रेट 7 फीसदी रह सकती है। यह 7 महीनों में दूसरा संशोधन है और कुल 120 बेसिस प्वाइंट्स की कमी है। 100 बेसिस प्वाइंट एक फीसदी प्वाइंट के बराबर होता है।
क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा कि भारत में कई प्रतिभाशाली महिलाएं हैं जो घर पर ही रहती हैं। लिहाजा उन्होंने श्रम शक्ति में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने पर जोर दिया है।
जॉर्जीवा ने कहा कि भारत ने पिछले कुछ सालों में शानदार वृद्धि हासिल की है IMF का अनुमान है कि वृद्धि बनी रहेगी।
जॉर्जीवा ने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि बाकी दुनिया की तरह भारत भी मंदी का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा कि 2019 में 6 फीसदी से अधिक की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि भारत को संरचनात्क सुधार पहली प्राथमिकता है। हमें उम्मीद है कि सुधार जारी रहेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।