Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चीन की अगुवाई वाले RCEP में भारत ने शामिल होने से किया इनकार

भारत सरकार ने कहा है कि देश हितों को ताक पर रखकर इस व्यापारिक समझौते का हिस्सा नहीं बन सकता है।
अपडेटेड Nov 05, 2019 पर 14:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चीन की अगुवाई वाले RCEP में भारत ने शामिल होने से इनकार कर दिया है। भारत सरकार ने कहा है कि देश हितों को ताक पर रखकर इस व्यापारिक समझौते का हिस्सा नहीं बन सकता है। खुद पीएम मोदी ने थाईलैंड के बैंकॉक में चल रहे रीजनल कॉम्प्रिहेंसिव इकनॉमिक पार्टनरशिप के मंच पर अपने भाषण में ये बात कही। इस समझौते में शामिल होने से देश के किसानों और उद्योगों को बड़े नुकसान की आशंका जताई जा रही थी। इसको लेकर भारत ने RCEP समझौते में बदलाव की भी मांग की थी लेकिन मांग पूरी नहीं होने पर भारत ने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया।


विदेश मंत्रालय ने अपने बायान में कहा है कि RCEP में शामिल होने के लिए भारत के महत्वपूर्ण मुद्दों का नहीं हुआ। इसमें किसान, डेयरी उत्पादकों के लिए पर्याप्त सेफगार्ड का अभाव है। बिना सेफगार्ड के बाजार खोलने से व्यापार को नुकसान होगा। चीन के साथ ट्रेड डेफिसिट, आयात-निर्यात अंतर चिंता का विषय है। बता दें कि आसियान देशों समेत 16 देशों के बीच ये समझौता होना है।


क्या है RCEP समझौता


RCEP सदस्य देशों के बीच एक ट्रेड एग्रीमेंट है। RCEP में आसियान के 10 देश शामिल हैं। आसियान के साथ 6 अन्य देश भी इसमें शामिल हैं। इसमें मेंबर देशों के साथ व्यापार में कई सहूलियतें दी गई हैं। इसमें निर्यात पर लगने वाला टैक्स नहीं या फिर कम लगेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।