Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भारत को मिलेंगे हाई टेक्नोलॉजी प्रोडक्ट

प्रकाशित Mon, 06, 2018 पर 08:35  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अमेरिका ने भारत को स्ट्रैटेजिक ट्रेड ऑथराइजेशन यानि एसटीए-1 का दर्जा दे दिया है। ये दर्जा पाने वाला भारत 37वां और तीसरा एशियाई देश बन गया है। एशिया में भारत के अलावा जापान और दक्षिण कोरिया को एसटीए-1 का दर्जा हासिल है। इसके बाद भारत को सिविल और डिफेंस सेक्टर में हाई टेक्नोलॉजी प्रोडक्ट्स की बिक्री हो सकेगी।


फिलहाल भारत अकेला ऐसा देश है जो एनएसजी यानि न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप का सदस्य नहीं है और जिसे एसटीए-1 का दर्जा दिया गया है। अमेरिका उन्हीं देशों को एसटीए-1 दर्जा देता है जो मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम, वासेनार अरेंजमेंट, ऑस्ट्रेलिया ग्रुप और एनएसजी के सदस्य होते हैं। भारत एनएसजी को छोड़ बाकी तीन मल्टीलेटरल एक्सपोर्ट रिजीम का सदस्य है। ऐसा माना जा रहा है कि भारत को एसटीए-1 का दर्जा देकर अमेरिका ने मान लिया है कि भारत में एनएसजी सदस्य बनने की पूरी योग्यता है। फिलहाल चीन के विरोध की वजह से भारत एनएसजी का सदस्य नहीं बन पा रहा है।