Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

इंश्योरेंश कंपनियों ने लॉन्च की कम प्रीमियम वाली कोरोना कवच और कोरोना रक्षक पॉलिसी

कोरोना कवच में कोविड 19 के इलाज के लिए 50,000 से 5 लाख रुपये का कवर मिलेगा.
अपडेटेड Jul 12, 2020 पर 08:37  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जनरल और हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों ने कोविड 19 के इलाज के लिए स्टैंडर्ड कोरोना कवच और कोरोना रक्षक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी शुरू कर दी हैं। इल पॉलीसियों को कंपनियों की वेबसाइट के जरिए या सीधे उनकी शाखाओं से खरीदा जा सकता है।


यूनाइटेड इंडिया, ओरिएंटल, नेशनल इंश्योरेंस, बजाज एलियांज, स्टार हेल्थ, मैक्सबूपा और कई कई कंपनियों ने कोरोना कवच की लॉन्चिंग कर दी है। जबकि स्टार हेल्थ, इफ्को टोकियो Universal Sompo जैसी कुछ कंपनियों ने Corona Kavach और Corona Rakshak की रूपरेखा तैयार कर ली है।


कोरोना कवच में कोविड 19 के इलाज के लिए 50,000  से 5 लाख रुपये का कवर मिलेगा तो कोरोना कवच में 50,000  से 2.5 लाख रुपये का कवर मिलेगा। इरडा की गाइडलाइन के मुताबिक अल्पावधि के लिए पॉलिसी 3.5 महीने, 6.5 महीने और 9.5 महीने के लिए हो सकती है। इसमें बीमा राशि 50,000 रुपये से लेकर 5  लाख रुपये तक (50,000 रुपये के गुणक में) है।


5 लाख रुपए का कवर देने वाले कोरोना कवच का प्रीमियम  600 रुपये के लगभग होगा तो  2.5 लाख रुपये की करोना रक्षक पॉलिसी का प्रीमियम 500 रुपए के आसपास होगा।


इरडा की गाइडलाइन के मुताबिक प्रीमयम भुगतान एक बार करना होगा और पूरे देश में प्रीमियम राशि समान होगी। कोरोना कवच पॉलिसी की लॉन्चिंग करते हुए  एचडीएफसी इरगो ने कहा कि नई स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी के तहत सरकारी मान्यता प्राप्त जांच घर में जांच के बाद कोरोना संक्रमण का मामला पाया जाता है तो उसके इलाज में अस्पताल में भर्ती होने का चिकित्सा खर्च का वहन किया जाएगा।


बजाज एलियांज ने भी इस प्रकार की बीमा पॉलिसी शुरू की है। कंपनी ने बेसिक बीमा कवर के लिए प्रीमियम 447 रुपये से लेकर 5,630 रुपये तय की है। इस पर जीएसटी अलग से लगेगा। बीमा प्रीमियम व्यक्ति की उम्र, बीमा राशि और अवधि पर निर्भर है। मैक्स बुपा के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी कृष्णन रामचंद्रन ने कहा कि मैक्स बुपा का कोरोना पालिसी का प्रीमियम कंपिटीटिव है। 31 से 55 साल के व्यक्ति के लिए 2.5 लाख रुपये की पॉलिसी का प्रीमियम 2,200 रुपये है। इसी उम्र के दो वयस्कों और दो बच्चों के लिए प्रीमयिम 4,700 रुपये है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस भी कोरोना कवच पॉलिसी ला रही है।


मनी कंट्रोल की राय


नो रूम रेंट सब-लमिट और को-पे के साथ एक पर्याप्त  रेग्युलर हेल्थ इश्योंरेंस पॉलिसी  सबसे बेहतर होती है।  इसमें किसी खास रोग से संबंधित कोरोना कवच और कोरोना रक्षक जैसे स्टैंडर्ड प्लान के विपरीत  रोगों  और सर्जरियों की व्यापक रेंज कवर होती है। कम उम्र में ही एक अच्छी रेग्युलर हेल्थ इश्योंरेंस पॉलिसी  ले लें जिससे की किसी pre-existing बीमारी का वेटिंग पीरियड आपका बुढापा आने तक खतम हो जाए। COVID-19 ने हमें एक बहुत अच्छा पाठ पढ़ाया है ये है कि स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानी किसी भी उम्र में आ सकती हैं।


अगर आप 40 साल के हैं तो कम से कम 10 लाख रुपये का बड़ा कवर लें और हर 5 साल पर बढ़ती महंगााई को ध्यान में रखते हुए बीमित राशि की समीक्षा करते रहें। अगर आप किसी बड़े और रेग्यूलर कवर का वहन नहीं कर सकते तो आपके लिए आरोग्य संजीवनी एक सस्ता और बेहतर विकल्प है। आप अपनी जरूरत के मुताबिक सुपर टॉप-अप प्लान के जरिए भी अपना हेल्थ कवर बढ़ा सकते हैं। बता दें कि super top-up plans तभी ट्रिगर होते हैं जब आपके बेस प्लान की सीमा समाप्त हो जाती है। बेस और super top-up plans का मिश्रण आपको कम प्रीमियम पर बड़ा हेल्थ कवर उपलब्ध करवाता है।


अगर अभी आप COVID-19 के आलावा और कुछ नहीं सोच सकते तो अप इन COVID-19 standard covers को ले सकते हैं। इनका प्रीमियम और वेटिंग पीरियड भी कम है लेकिन ये बात ध्यान में रखें कि ये सीमित अवधि वाले प्लान हैं। बुढापे में आपको हेल्थ कवर की जरूरत होगी। रेग्यूलर पॉलिसी पूरी जिंदगी रि-न्यू कराई जा सकती है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.