Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

BPCL के निजीकरण की तैयारियों के बीच, IOC, HPCL बदलेंगी मार्केटिंग स्ट्रैटजी!

BPCL के निजीकरण की तैयारियों के बीच सरकारी तेल कंपनियां अपनी मार्केटिंग स्ट्रैटजी में बदलाव पर विचार कर रही हैं।
अपडेटेड Oct 17, 2019 पर 09:23  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

BPCL के निजीकरण की तैयारियों के बीच सरकारी तेल कंपनियां अपनी मार्केटिंग स्ट्रैटजी में बदलाव पर विचार कर रही हैं। सीएनबीसी आवाज़ को सूत्रों से मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक इंडियन ऑयल और एचपीसीएल जैसी सरकारी कंपनियों को लगता है कि निजी कंपनियों को अगर बीपीसीएल का मजबूत रिटेल नेटवर्क मिलता है तो उनके लिए चुनौती बढ़ेगी लिहाजा मौजूदा मार्केटिंग और विस्तार योजनाओं में बदलाव पर विचार किया जा रहा है।


सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बीपीसीएल के निजीकरण से सरकारी तेल कंपनियों की रणनीति बदलेगी। इंडियन ऑयल और एचपीसीएल अपनी मार्केटिंग रणनीति में बदलाव पर विचार कर रही हैं। ये दोनों कंपनियां अपनी विस्तार योजनाओं पर भी नये सिरे से विचार कर रही हैं। अभी सरकारी कंपनियां रिटेल नेटवर्क मार्केटिंग में एक दूसरे की क्षेत्रीय मजूबती का ध्यान रखती हैं। प्रोडक्ट सप्लाई में भी एक दूसरे का सहयोग करती हैं। अब बीपीसीएल के निजीकरण से निजी कंपनियां रिटेल मार्केट का गणित बदलेंगी।


बता दें कि बीपीसीएल के पास अभी 14 हजार से ज्यादा रेटल आउटलेट हैं। सरकारी कंपनियों को लगता है रिटेल सेक्टर में निजी कंपनियां अपनाएंगी एग्रेसिव रणनीति अपनानी होगी। आंकड़ों के मुताबिक देश में अभी करीब 61 हजार पेट्रोल पंप हैं। इसमें निजी कंपनियों की हिस्सेदारी करीब 10 फीसदी है। बीपीसीएल की बिक्री से निजी सेक्टर की हिस्सेदारी बढ़कर 32 फीसदी के करीब हो जाएगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।