Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

IPO की भीड़ पर अनुभवी इनवेस्टर विजय केडिया का तंज, गोलगप्पे की मार्केटिंग वॉटरबॉल के तौर पर

केडिया ने कहा, कमजोर फंडामेंटल्स वाली कंपनियों के शेयर खरीदने से इनवेस्टर्स को लॉस हो सकता है
अपडेटेड Jul 23, 2021 पर 08:52  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पिछले कुछ महीनों से स्टॉक मार्केट में लिस्टिंग कराने वाली कंपनियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इन पब्लिक ऑफर्स में रिटेल इनवेस्टर्स भी काफी दिलचस्पी ले रहे हैं। हालांकि, मार्केट में लंबा अनुभव रखने वाले कुछ इनवेस्टर्स IPO लाने के लिए कंपनियों की लंबी कतार को लेकर खुश नहीं हैं।


स्टॉक मार्केट के अनुभवी इनवेस्टर्स में शामिल विजय केडिया ने IPO लाने के इस ट्रेंड कर तंज कसते हुए हाल ही में एक वीडियो शेयर किया था जिसमें एक खोमचे वाले के गोल गप्पों की मार्केटिंग वॉटरबॉल के तौर पर करने के जरिए रिटेल इनवेस्टर्स से रकम जुटाने की कोशिश को दिखाया गया था।


CCI ने Amazon पर फ्यूचर ग्रुप की यूनिट के साथ डील की गलत जानकारी देने का आरोप लगाया


IPO के साथ फंड जुटाने की दौड़ पर प्रश्न उठाने वाले केडिया अकेले नहीं हैं। इससे पहले RPG Enterprises के चेयरमैन हर्ष गोयनका भी कमजोर फंडामेंटल्स वाली टेक कंपनियों के IPO लाने पर हैरानी जता चुके हैं।


गोयनका ने ट्वीट कर कहा था कि वह जोमाटा या उसकी राइवल स्विगी जैसी एक ऐप शुरू करने की योजना बना रहे हैं जो "केवल" 3,000 करोड़ रुपये के नुकसान के साथ 40 प्रतिशत डिस्काउंट पर फूड उपलब्ध कराएगी।


स्टॉक मार्केट में IPO को लेकर दिलचस्पी बढ़ने को देखते हुए टेक स्टार्टअप्स को इस जरिए से फंड जुटाना आसान लग रहा है।


एक्सपर्ट्स का कहना है कि इनमें से बहुत सी कंपनियां घाटे में हैं और इनका वैल्यूएशन बहुत अधिक है। इससे इनके शेयर्स खरीदने वालों को नुकसान हो सकता है।


 सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।