Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आपका आधार कार्ड कैंसल हो सकता है, जानिए क्यों

प्रकाशित Wed, 15, 2019 पर 13:23  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आधार कार्ड भारतीय नागरिकों के लिए एक आधार (Base) है। यह एक ऐसा आधार है जो आपकी पहचान का आधार रखता है। आधार कार्ड की जरूरत दिनों-दिन हर काम में पड़ने लगी है। यह एक ऐसा पहचान पत्र बन गया है, जिसकी हर जगह जरूरत पड़ती है। आधार कार्ड के जरिए ही बाकी के डॉक्यूमेंट्स बन सकेंगे। ऐसे में इसे संभालकर रखना जितना जरूरी है, उतना ही इसकी उपयोगिता भी है। अगर आपने आधार कार्ड बनवा कर रख लिया। कहीं इसका उपयोग नहीं किया। तो फिर आपके लिए खतरे की घंटी बज चुकी है।


 दरअसल आधार कार्ड जारी करने वाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी UIDAI के मुताबिक, अगर आपने अपने आधार कार्ड का तीन साल तक उपयोग नहीं किया तो यह डिएक्टिवेट यानी बंद हो जाएगा। इसलिए इसका उपयोग करना जरूरी है। सबसे पहले अपने आधार कार्ड को बैंक के एकाउंट में दर्ज करा दें। वहां पैन कार्ड नम्बर भी दर्ज होगा। ऐसे में आधार कार्ड के पैन से लिंक होने के बाद डिएक्टीवेट होने की उम्मीद खत्म हो जाएगी। साथ ही इसका उपयोग सरकारी स्कीम्स का लाभ उठाने के लिए जरूर करें। जैसे पेंशन की सुविधा, ईपीएफओ की डिटेल देने में, पैन कार्ड से लिंक करने जैसे कामों के लिए आधार कार्ड का हमेशा उपयोग करें। 


कैसे पता करें आधार कार्ड डिएक्टीवेट तो नहीं ?


अगर आप अपने आधार कार्ड का स्टेटस जानना चाहते हैं कि वो एक्टीवेट है या डिएक्टीवेट तो इसकेलिए आपको UIDAI की वेबसाइट पर जाकर पता चलेगा। आपको uidai.gov.in वेबसाइट पर जाकर आधार सर्विस के ऑप्शन को सेलेक्ट करना है, जिसके बाद आपको वेरीफाई आधार नम्बर पर जाकर अपना आधार नम्बर टाइप करना होगा। जैसे आप अपना आधार नम्बर डाल देंगे तो उसके सामने लाल या हरे रंग का निशान दिखेगा। हरे रंग का निशाना दिखा तो मतलब एक्टीवेट है। अगर लाल दिखा तो मतलब डिएक्टीवेट है।


कैसे करें एक्टीवेट ? 


अगर आपको अपने आधार कार्ड को एक्टीवेट कराना है तो इसके लिए आपको वो सभी डॉक्यूमेंट्स एकत्र करने होंगे जो आपने आधार कार्ड बनवाते समय किये थे। आपको अपने सारे डॉक्यूमेंट लेकर आधार एनरोलमेंट सेंटर जाना होगा। वहां जाकर आधार अपडेट का फॉर्म भरना होगा। जिसके बाद फिर बायोमेट्रिक वेरीफाई किया जाएगा। इसके बाद एक्टीवेट होगा। ये सब करने के लिए आपको 50 रुपये फीस भी देनी होगी।


ऐसे में इन सब झंझटों से बचने के लिए सलाह यही है कि आधार कार्ड का इस्तेमाल तीन साल में कहीं न कहीं सरकारी योजनाओं में उपयोग कर लें।