Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

लक्ष्मी विलास बैंक का इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस के साथ नहीं होगा विलय, RBI ने दिया झटका

RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक का इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस में विलय के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है।
अपडेटेड Oct 10, 2019 पर 13:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिजर्व बैं कऑफ इंडिया (RBI) ने बुधवार को लक्ष्मी विलास बैंक और इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस के बीच प्रस्तावित विलय को खारिज कर दिया है। जिससे देश में किसी गैर बैंक का किसी बैंक के साथ विलय करने की पहली कोशिश रद्द कर दी गई है।
लक्ष्मी विलास बैंक स्टॉक एक्सचेंज को फाइलिंग में बताया कि RBI ने 9 अक्टूबर 2019 को अपने पत्र के जरिए बताया कि लक्ष्मी विलास बैंक के साथ इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस लि. और इंडियाबुल्स कमर्शियल क्रेडिट लि. को विलय के आवेदन की मंजूरी नहीं दी जा सकती। बैंक ने सात मई 2019 को प्रस्तावित विलय के बारे में RBI से मंजूरी मांगी थी।


अप्रैल में सभी स्टॉक के विलय होने की घोषणा के बाद से इंडियाबुल्स हाउसिंग के शेयरों में 73.45 फीसदी और लक्ष्मी विलास बैंक के शेयरों में 71 फीसदी की गिरावट देखने को मिली।


लक्ष्मी विलास बैंक का हेड ऑफिस चेन्नई में है। लक्ष्मी विलास बैंक पर पिछले महीने  RBI ने सख्त कार्रवाई करते हुए उसको PCA फ्रेमवर्क में डाल दिया है। 790 करोड़ रुपये की हेराफेरी होने के बाद बैंक ने यह फैसला लिया है। लक्ष्मी विलास बैंक में NPA बढ़ने, अपर्याप्त पूंजी, लगातार दो साल तक एसेट्स पर निगेटिव रिटर्न, से RBI ने बैंक को PCA की लिस्ट में डाल दिया है।


PCA के तहत लक्ष्मी विलास बैंक पर कर्ज देने, नई ब्रांच खोलने और डिविडेंड का भुगतान करने पर रोक लग गयी है। बैंक को चुनिंदा क्षेत्रों को दिए कर्ज में कमी लाने पर भी काम करना होगा।


31 मार्च को समाप्त साल के लिए बैंक का NPA 7.49 फीसदी, पूंजी पर्याप्तता अनुपात (Capital Adequacy Ratio) 7.72 फीसदी और परिसंपत्तियों पर इसका रिटर्न (RoA) -2.32 फीसदी था।


देश के बड़े निजी बैंकों में शुमार लक्ष्मी विलास बैंक के डायरेक्टर्स के खिलाफ दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने 790 करोड़ रुपये गबन के आरोप में केस दर्ज किया है। इस केस को पुलिस ने फाइनेंशियल सर्विस कंपनी रेलिगेयर फिनवेस्ट की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए किया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।