Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

IRCTC से रिफंड चाहिए तो करें PNR लिंक

प्रकाशित Tue, 16, 2019 पर 11:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

इंडियन रेलवे की लेट-लतीफी की वजह से अक्सर कनेक्टिंग ट्रेन वाला सफर कर रहे यात्रियों को तकलीफ उठानी पड़ती है। सफर खराब होता है ही पैसों का नुकसान होता है वो अलग।


यात्रियों के कनेक्टिंग जर्नी को सुविधाजनक बनाने के लिए रेलवे मंत्रालय ने पीएनआर लिंकिंग का कॉन्सेप्ट शुरू किया है। अब दो ट्रेन के बीच में कनेक्टिंग जर्नी कर रहे पैसेंर्जस अपने दोनों ट्रेनों का पीएनआर लिंक करा सकेंगे।


फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, यात्री अपने ई-टिकट के साथ-साथ काउंटर टिकट दोनों को ही लिंक करा सकते हैं। इससे यात्री पहली ट्रेन के लेट होने की सूरत में दूसरी ट्रेन के टिकट का रिफंड क्लेम कर सकते हैं।


ये नया नियम 1 अप्रैल, 2019 से लागू हो चुका है। यात्रियों को अब दूसरे ट्रेन की टिकट बुक करते हुए आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ही पीएनआर लिंकिंग का ऑप्शन दिया जाएगा। नियम है कि अगर पैसेंजर की पहली ट्रेन लेट चल रही है तो वो दूसरी ट्रेन के टिकट के लिए रिफंड क्लेम कर सकता है। इसके लिए उसे पहली ट्रेन के असल अराइवल टाइम के तीन घंटे के भीतर दूसरी ट्रेन का टिकट रिफंड के लिए अवेलेबल कराना होगा। रिफंड अमाउंट जंक्शन स्टेशन से वापस लिया जा सकेगा।


बस यात्रियों को कुछ बातों का ध्यान रखना होगा


दोनों पीएनआर के साथ यात्री का नाम होना चाहिए। पीएनआर लिंकिंग हर क्लास में यात्रा कर रहे यात्री करा सकते हैं। अगर यात्री अपनी दूसरी टिकट का कैंसिलेशन कराना चाहते हैं तो उन्हें अपनी पहली ट्रेन के टर्मिनेटिंग स्टेशन या दूसरी ट्रेन के ओरिजिनेटिंग स्टेशन पर कराना होगा। साथ ही पहली ट्रेन का डेस्टिनेशन और दूसरी ट्रेन का बोर्डिंग स्टेशन एक ही होना चाहिए।


रिफंड के लिए अगर करंट काउंटर अवेलेबल नहीं है तो यात्रियों को अगले तीन दिनों के अंदर टिकट डिपॉजिट रसीद इशू किया जाएगा। अगर आपके पास काउंटर टिकट है तो इंटरकनेक्टिंग स्टेशन पर उसे पहली ट्रेन के असल अराइवल टाइमिंग के तीन घंटे के भीतर रिफंड के लिए दिया जा सकता है। रिफंड अमाउंट रिफंड ऑफिस की जांच के बाद ही लौटाया जाएगा।


ई-टिकट का रिफंड लेने के लिए यात्रियों को पहली ट्रेन के असल अराइवल टाइमिंग के तीन घंटे के भीतर टीडीआर फाइल करनी होगी। साथ ही ट्रेन मिस होने का कारण भी बताना होगा।