Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दूरी बनाओ-कोरोना भगाओ, लॉकडाउन के स्ट्रेस से निपटने के टिप्स

कोरोना से हमारे इस महाभारत में स्ट्रेस से निपटने के लिए यहां हम दे रहे हैं कुछ टिप्स।
अपडेटेड Mar 26, 2020 पर 15:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सूत्रों के मुताबिक भारत सरकार कोरोना प्रभावितों के लिए 1.5 लाख करोड़ रुपये का पैकेज दे सकती है । 10 करोड़ लोगों के खाते में सीधे पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं । इस पर हफ्ते के अंत तक फैसला होने की उम्मीद है। इस बीच भारत में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 600 के पार चला गया है। देश में कोरोना से 11 की मौत हो चुकी है। वहीं, तकरीबन 50 लोग ठीक हुए हैं।नॉर्थ ईस्ट के  मणिपुर, मिजोरम में 1-1 मरीज मिले हैं। ICMR ने कहा है कि कोरोना का कम्यूनिटी ट्रांसमिशन 20 दिन से कुछ महीने में होता है।




ग्लोबल नजरिए से देखें तो इटली में 1 दिन में कोरोना से 743 लोगों की मौत हुई है। हालांकि यहां इसकी संक्रमण दर घटी है। स्पेन में मरने वालों की संख्या चीन से ज्यादा हो गई है। अमेरिका में इससे 700 लोगों की मौत हो चुकी हैं। अमेरिका में कुल संक्रमण 74000 पहुंच गया है। वहीं, चीन ने बाहर से आए 45 कोरोना मरीजों की पहचान की है। दुनिया में कोरोना मरीजों की संख्या 4.6 लाख के पार चली गी है। इससे दुनिया भर में 21,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। रूस में भी अगले हफ्ते लॉकडाउन रहेगा। स्पेन के उप प्रधानमंत्री  भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।



इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए भारत में लॉकडाउन कर दिया गया। इस लॉकडाउन के अपने फायदे है लेकिन इससे हमारा स्ट्रेस बढ़ सकता है। कोरोना से हमारे इस महाभारत में स्ट्रेस से निपटने के लिए यहां हम दे रहे हैं कुछ टिप्स जो करोना से हमारी लड़ाई को और आसान बना सकते हैं।



घर से काम करने के टिप्स


1.


घर पर ऑफिस वाले कपड़े पहनें


इससे आप काम करने के लिए दिमागी रूप से तैयार होते हैं


2.


रुटीन तय करें


- ऑफिस के समय के मुताबिक काम शुरू और खत्म करें
- सही समय पर सो जाएं ताकि आपकी नींद पूरी हो सके
- अपने वर्कआउट का समय भी तय करें


3.


बैठने की जगह तय करें


- घर में बैठने की जगह तय करें
- काम करते हुए ठीक तरीके से बैठें
- सही तरीके से बैठेंगे तो कमर के दर्द से बचेंगे


4.


फोन पर बात करें


- थोड़ा समय निकालकर फोन पर बात कीजिए
- इससे सोशल कनेक्शन बना रहेगा


5.


ब्रेक लेते रहें


- पूरा दिन कंप्यूटर से ना चिपके रहें
- समय-समय पर स्क्रीन ब्रेक लेते रहें
- अपनी जगह से उठें और थोड़ा टहलें




 वजन का रखें ध्यान


- घर में खाना खाने का शेड्यूल बनाएं
- घर में हेल्दी खाना खाएं
- बार-बार स्नैक्स ना खाएं
- स्ट्रेस की वजह से बार-बार ना खाएं
- बार-बार भूख लगे तो अपना ध्यान बटाएं
- अपनी हॉबी का सही इस्तेमाल करें
- आप क्या खा रहे हैं इसे नोट करके रखें
- घर में व्यायाम जरूर करें
- अपनी नींद पूरी करें


- लॉकडाउन के स्ट्रेस से ऐसे मिलेगी राहत


- सुबह घर पर ही व्यायाम करें
- मेडिटेशन (ध्यान) करने से मन शांत रहेगा
- घर में म्यूजिक सुनें, सुकून मिलेगा
- किताबें पढ़ सकते हैं
- पेंटिंग से मन लगा रहेगा
- फोन पर दोस्तों से बात करें
- वीडियो कॉल के जरिए दोस्तों से जुड़ सकते हैं
- हेल्दी खाना खाएं
- कम से कम 8 घंटे की नींद पूरी करें
 
लॉकडाउन में इन बातों का ध्यान रखें
 
- जब तक बहुत जरूरी ना हो घर से बाहर ना निकलें
- अपना आई कार्ड हमेशा साथ लेकर चलें
- जरूरी सामान, सेवा के लिए ही घर से बाहर निकल सकते हैं
- पुलिस आपसे बाहर निकलने का कारण जान सकती है
- पुलिस आपसे सबूत भी मांग सकती है
- काम जरूरी ना होने पर 1,000 रुपये जुर्माना या 6 महीने की जेल
- गैरजरूरी काम के लिए कर्फ्यू पास जरूरी




यही मौका है




- पान, बीड़ी, सिगरेट, शराब छोड़ दें
- एक्सरसाइज करने की आदत डाल लें
- संगीत, पेंटिंग जैसे शौक पूरा करें
- पुराने मित्रों से फोन पर बातचीत करें
- वायरस, बैक्टिरिया पर नियंत्रण कर लें



लॉकडाउन में ये खुले रहेंगे


-    अस्पताल और केमिस्ट की दुकानें
-    ग्रॉसरी, फल और सब्जी की दुकानें
-    पेट्रोल पंप और CNG पंप
-    दूध की दुकानें
-    बैंक और ATM
- LPG गैस एजेंसी  
-    ई-कॉमर्स और होम डिलिवरी


लॉकडाउन का मतलब समझिए


-    सभी सार्वजनिक स्थान बंद
-    सभी तरह का पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद
-    ट्रेन, मेट्रो, लोकल, स्टेट ट्रांसपोर्ट बसें बंद
-    सिर्फ जरूरी सेवाओं के लिए बसें चालू
-    ग्रॉसरी, मेडिकल स्टोर को छोड़कर सभी दुकानें बंद
-    जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी
-    सभी तरह के सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रम रद्द


क्यों जरूरी है सोशल डिस्टेंसिंग?


-    सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब एक-दूसरे से दूर रहना
-    एक-दूसरे से दूर रहने पर संक्रमण का खतरा कम होता है
-    संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके कण हवा में फैलते हैं
-    इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु हो सकते हैं
-    विषाणुयुक्त कण सांस के जरिए आपके शरीर में जा सकते हैं
-    संक्रमित जगह को छूने से भी विषाणु आपके शरीर में पहुंचते हैं
-    सोशल डिस्टेंसिंग से संक्रमण की चेन टूटती है
-    संक्रमण की चेन टूटने से कोरोना का असर धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा


कोरोना महामारी के 4 स्टेज


स्टेज 1


बाहर से आया संक्रमण


- मामले बाहर से आते हैं, स्थानीय नहीं
- इनकी पहचान करके अलग कर सकते हैं
- फरवरी में भारत स्टेज 1 में था


स्टेज 2


स्थानीय ट्रांसमिशन


- लोग संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आकर पॉजिटिव हो जाते हैं
- इनकी संख्या एक से ज्यादा हो सकती है
- भारत फिलहाल स्टेज 2 में है


स्टेज 3


कम्युनिटी ट्रांसमिशन


- संक्रमित व्यक्ति कहां घूमा, किसके संपर्क में आया, इसकी जांच होती है
- वैज्ञानिक संक्रमण के स्रोत का पता लगाने में नाकाम
- भारत के लिए अगले दो हफ्ते महत्वपूर्ण
-US,UK,यूरोप के ज्यादातर देश स्टेज 3 में हैं


स्टेज 4


महामारी की घोषणा


- जब बीमारी पूरे देश में फैल जाती है
- संक्रमित लोगों के मामले बढ़ने लगते हैं
- संक्रमण के स्रोत का पता नहीं चलता
- चीन, इटली, ईरान स्टेज 4 में हैं


संक्रमण का शक है तो क्या करें?


- सीधे अस्पताल ना जाएं
- 24X7 हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें
- 91-11-23978046 पर फोन करें
- ncov2019@gmail.com पर ई-मेल करें
- जिला सर्वेलांस अधिकारी आपसे संपर्क करेंगे
- संदिग्ध लोगों के लिए अलग से एम्बुलेंस 
- सैम्पल को टेस्टिंग के लिए लैब भेजा जाता है
- सैम्पल के बाद डॉक्टर हालत का आकलन करते हैं
- अस्पताल में भर्ती जरूरी नहीं तो घर पर अलग रहने के लिए कहा जाता है
- अगर टेस्ट पॉजिटिव आता है तो आपको Quarantine किया जाएगा


 
 
 कोरोना वायरस के लक्षण


- बुखार, खांसी, सर्दी, सांस में दिक्कत
- छोटी-छोटी सांस लेना, निमोनिया
- SARS (Severe Acute Respiratory Syndrome)
- किडनी फेल हो जाना
- छूने से फैलता है कोरोना वायरस
- कोरोना का अभी तक कोई इलाज नहीं


 
 कोरोना से बचने के तरीके



क्या करें?


- व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान दें
- साबुन, सैनेटाइजर से अच्छी तरह हाथ धोते रहें
- छींकने और खांसने के दौरान मुंह जरूर ढकें
- टिशू इस्तेमाल करने के बाद तुरंत बंद डिब्बे में फेंक दें
- अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें
- बुखार, खासी, सांस लेने में तकलीफ हो तो डॉक्टर से मिलें
- सांस लेने में दिक्कत हो तो मास्क पहनें
- अस्वस्थ महसूस होने पर डॉक्टर से मिलें
- एक दूसरे से दूरी बनाए रखें


 


 कोरोना से बचने के तरीके



क्या ना करें?


- खांसी या बुखार है तो किसी के संपर्क में ना आएं
- सार्वजनिक स्थानों पर ना थूकें
- कच्चा, अधपका मांस ना खाएं
- जीवित पशुओं के बाजार जाने से बचें
- जानवरों को मारे जाने वाले स्थान पर ना जाएं


 
यहां मिलेगी कोरोना की जानकारी


- हेल्पलाइन नंबर - 91-11-23978046


- ई-मेल ID - ncov2019@gmail.com


 


कैसे होती है कोरोना वायरस की जांच?


- पहले संदिग्ध व्यक्ति की पहचान होती है
- सैंपल को टेस्ट के लिए भेजा जाता है
- सैंपल निगेटिव हुआ तो मरीज को तुरंत छोड़ा जा सकता है
- 14 दिन की मॉनिटरिंग में रखा जा सकता है
- सैंपल पॉजिटिव हुआ तो प्रोटोकॉल का पालन होगा
- चेस्ट रेडियोग्राफ क्लियर होने के 24 घंटे बाद मरीज को छोड़ा जाता है


 कोरोना के बारे में मिथक


- एंटीबायोटिक्स से कोरोना ठीक हो सकता है
- पालतू जानवरों से कोरोना वायरस फैलता है
- निमोनिया की वैक्सीन कोरोना से बचा सकती है
- लहसुन खाने से कोरोना के संक्रमण से बचा जा सकता है
- तिल का तेल लगाने से कोरोना से बचाव होता है
- शरीर पर अल्कोहॉल, क्लोरीन छिड़कने से कोरोना वायरस मरता है
- चीन से आया पैकेट सुरक्षित नहीं


 कैसे बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता



आयुर्वेद फॉर्मूला


पिपली चूर्ण
सितोपलादि चूर्ण
तालिसादी चूर्ण
गुडुची घनवटी
सुदर्शन घनवटी
तुलसी का रस
गिलोय का रस
स्वर्णामृत ड्रॉप (बच्चों के लिए)




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।