Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बॉलीवुड में यौन शोषण की कई कहानियां

प्रकाशित Mon, 08, 2018 पर 16:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बॉलीवुड में मी टू मूवमेंट जोर पकड़ता जा रहा है। अभिनेत्री तनु श्री ने नाना पाटेकर पर आरोप लगाया और उसके बाद अब दूसरी अभिनेत्रियां भी अपने साथ हुए बदसलूकी और छेड़-छाड़ के बारे में बात करने लगी है। फिल्म अभिनेता रजत कपूर पर भी ये आरोप लगा है। इसके अलावा फिल्म प्रॉडयूसर और डायरेक्टर विकास बहल पर कई आरोप लगे हैं। कंगना रनौत ने क्वीन फिल्म के सेट पर यौन शौषण का खुलासा किया तो फैंटम फिल्म काम करने वाली एक लड़की ने भी विकास बहल पर आरोप लगाया है। इसके अलावा एक दूसरे डायरेक्टर सुभाष कपूर पर भी यौन शोषण और छेड़छाड़ का आरोप लगा है।


वहीं तनुश्री और नाना पाटेकर विवाद में आज नाना पाटेकर मीडिया के सामने आए। हालांकि उन्होंने इस मामले में ज्यादा कुछ कहने से इंकार कर दिया और सिर्फ इतना कहा कि वो अपने वकील के राय से मीडिया में फिजूल की बयानबाजी नहीं करेंगे। नाना पाटेकर कानूनी तौर पर अपना पक्ष रखने वाले थे लेकिन बात बढ़ने के बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस रद्द कर दी है। तनुश्री दत्ता ने हॉर्न ओके फिल्म के सेट पर छेड़छाड़ को लेकर नाना पाटेकर और कोरियोग्राफर गणेश आचार्य पर एफआईआर भी दर्ज कराया है। वहीं नाना पाटेकर ने तनुश्री के आरोपों को झूठा करार दिया है। हॉर्न ओके के प्रॉडयूसर सामी सिद्दीकी ने भी आरोपों को झूठा और पब्लिसिटी स्टंट बताया। उन्होंने कहा कि इस मामले की पहले ही जांच हो चुकी है और आरोप साबित नहीं हुए थे।


इधर महिला और बाल कल्याण मंत्री मेनका गांधी ने मी टू मूवमेंट पर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। सिर्फ इस लिए ढिलाई नहीं बरती जानी चाहिए कि ये सब मामले पुराने हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि इस बात का ख्याल रखा जाना चाहिए कि शिकायतें सिर्फ बदले की भावना या किसी को निशाना बनाने के लिए ना कराई जाए।


इस बीच फिल्म मेकर अनुराग कश्यप ने कहा है कि उन्होंने यौन शोषण के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की। अनुराग ने कहा कि उन्होंने अपने बिजनेस पार्टनर विकास बहल से पुरा नाता तोड़ लिया। अनुराग ने कहा है कि जब उन्हें इस बारे में पता चला तो उन्होंने विकास को पहले कंपनी से निलंबित किया और दफ्तर आने पर पाबंदी लगा दी। इतना ही नहीं विकास से कंपनी में दस्तखत करने के अधिकार को भी छीन लिया और जहां भी संभव हुआ उन्होंने विकास के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया।