Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Coronavirus crisis:Maruti Suzuki ने बढ़ाया मदद का हाथ, joint venture में बनायेगी ventilators और मास्क

MSIL ने वेंटीलेटर्स बनाने वाली मान्यताप्राप्त मौजूदा कंपनी AgVa Healthcare के साथ एक एग्रीमेंट किया है।
अपडेटेड Mar 30, 2020 पर 08:55  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिका की जनरल मोटर्स और फोर्ड की तर्ज पर ही मारुति सुजुकी और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसे भारत के ऑटोमोटिव दिग्गज अहम चिकित्सकीय उपकरण के उत्पादन करने में मदद करने के लिए कदम बढ़ा रहे हैं।


दिल्ली स्थित कंपनी ने 28 मार्च को सूचित किया कि कार बाजार की अग्रणी मारुति सुजुकी (MSIL)वेंटिलेटर, मास्क और सुरक्षात्मक कपड़ों के उत्पादन में तीन अलग-अलग कंपनियों की सहायता करेगी।


कंपनी ने अपने स्टेटमेंट में कहा है कि भारत सरकार के अनुरोध पर मारुति सुजुकी ने वेंटिलेटर, मास्क और अन्य उपकरणों के उत्पादन में सहायता करने की अपनी क्षमता की जांच की है। MSILने एक वेंटिलेटर बनाने वाली कंपनी AgVa Healthcare के साथ करार किया है। इस करार के तहत MSIL वेंटिलेटर का उत्पादन बढ़ा कर प्रति माह 10,000 यूनिट करने के लिए  AgVa हेल्थकेयर के साथ मिलकर काम करेगी।


 
AgVa हेल्थकेयर पर इस करार के तहत बनने और बिकने वाले सभी वेंटिलेटरों के लिए टेक्नोलॉजी देने, उनके प्रदर्शन और दूसरे संबंधित मामलों की जिम्मेदार होगी। जबकि MSIL वेंटीलेटरों को बनाने के लिए जरूरी उपकरणों के उत्पादन के लिए अपने सप्लायर्स की सहायता लेगा और उत्पादन को बढ़ाने और गुणवत्ता नियंत्रण के लिए सिस्टम को अपग्रेड करने के अपने अनुभव और जानकारी का उपयोग करेगा।


मारुति की तरफ से आगे कहा गया है कि MSIL इसके लिए पैसे जुटाने और उत्पादन को बढ़ाने के लिए सभी आवश्यक अनुमतियाँ और अनुमोदन प्राप्त करने का काम भी करेगा। मारुति AgVa हेल्थकेयर को ये सेवाएं बिना किसी कीमत के उपलब्ध करवाएगी।


इसके अलावा कृष्णा ग्रुप के संस्थापक अशोक कपूर के साथ MSIL का एक  joint venture कृष्णा मारुति  हरियाणा और केंद्र सरकार को आपूर्ति के लिए 3-प्लाई वाले मास्क का उत्पादन करेगी। सभी अनुमोदन प्राप्त होते ही यहां उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है। कपूर अपने स्वयं के योगदान के रूप में 2 मिलियन मास्क मुफ्त प्रदान करेंगे।



Relan family के साथ MSIL का एक joint venture भारत सीट्स सभी जरूरी अनुमोदन मिलते ही protective clothing का उत्पादन शुरू कर देगा।


दो दिन पहले महिंद्रा ग्रुप ने कहा था कि वह वेंटिलेटर के एक बेहद किफायती संस्करण पर काम कर रहा है, जिसकी लागत 7,500 रुपये से कम होगी जबकि अभी वेंटिलेटर के लिए 5-7 लाख रुपये चुकाने होते हैं। उम्मीद है कि इसका prototype तीन दिन में तैयार हो जाएगा। इसके साथ ही मुंबई स्थित ये समूह स्वदेशी ICU ventilators उत्पादकों के साथ भी काम कर रहा है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।