Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कोरोना काल में मास्क और सैनिटाइजर भी बने मुसीबत, इस परेशानी का क्या है उपाय!

आइए जानते हैं कि ये Maskne है क्या। MASK और ACNE को मिलाकर Maskne बना है।
अपडेटेड Jul 12, 2020 पर 12:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मास्क सैनिटाइजर और साइड इफेक्ट्स


कोरोना से बचाव में मास्क और हैंड सैनिटाइजर को सबसे बड़ा हथियार बताया गया है। बात भी सही है जब तक वैक्सीन नहीं है तब तक कोरोना के संक्रमण चेन को तोड़ने में सबसे ज्यादा कारगर मास्क ही है। लेकिन मास्क ने नई मुसीबत खड़ी कर दी है, खासकर स्किन के लिए  Maskne यानि मास्क लगाने से होने वाली परेशानी। कील, मुंहासों के अलावा भी कई तरह की दिक्कत। इसी तरह हैंड सैनिटाइजर ने त्वचा पर असर दिखाना शुरू कर दिया है। मतलब बार बार हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल हमारे त्वचा को तकलीफ में डाल रहे हैं। ऐसे में उन लोगों को जिनको प्रोफेशनल या पर्सनल रीजन से मेकअप भी करना पड़ता है और मास्क भी लगाना पड़ता है उनके लिए तो ये मुसीबत दोहरी है। आखिर ऐसे में इस परेशानी का क्या है उपाय , कैसे मास्क और हैंड सैनिटाइजर का करें इस्तेमाल, किस मास्क को पहनने से आपकी परेशानी नहीं बढ़ेगी, आइए जानते हैं


कोरोना काल में  Maskne मुसीबत   बना गया है। सबसे पहले आइए जानते हैं कि ये Maskne है क्या। MASK और ACNE को मिलाकर  Maskne बना है। मास्क के नीचे पसीना आने से परेशानी होती है और इससे कील, मुहांसे जैसी समस्या हो सकती है। चेहरे पर जलन की समस्या भी हो सकती है। इसी को Maskne कहा जाता है।


मास्क और सैनिटाइजर से परेशानी


लंबे वक्त तक मास्क लगाने से एलर्जी हो सकती है। मास्क लगाने से कील मुंहासे का खतरा रहता है।  मास्क के एलास्टिक बैंड से कान, नाक में परेशानी हो सकती है। सैनिटाइजर के साइड इफेक्ट्स की बात करें तो इससे शरीर के MICROBIOME को नुकसान होता है और अच्छे एंटी बायोटिक रेजिस्टेंट बैक्टिरीया भी मारे जाते हैं। ये गंदगी और तेल साफ नहीं करता है। इससे हाथ की त्वचा शुष्क हो सकती है। इसकी गंध मुंह में पहुंचने से खतरनाक हो सकती है। दूसरे केमिकल के साथ रिएक्शन भी हो सकता है।


 इस परेशानी का क्या है उपाय?


मास्क पहनते समय मेकअप न लगाएं। गर्मी, उमस में मेक अप दिक्कत बढ़ाएगा। मेकअप लगाने से कील मुहांसे की समस्या भी होती है। जरूरी हो तो ऑयल-फ्री प्रोडक्ट यूज करें। मास्क के लिए क्लीन शेव रहें। मास्क लगाना जरूरी हो तो क्लीन शेव रहें। दाढ़ी बढ़ाए रखने से इंफेक्शन का डर रहता है। बाल की जड़ में इंफेक्शन का खतरा होता है। दाढ़ी रखने वालों को इंफेक्शन ज्यादा होता है।


मास्क ब्रेक जरूरी है। लंबे वक्त तक लगातार मास्क ना लगाएं। मास्क ब्रेक भी स्किन के लिए जरूरी है। घर के अंदर, कार में अकेले हैं तो मास्क हटा लें। बाहर हैं तो 4 घंटे में एक बार मास्क ब्रेक लें। कपड़े का मास्क धोकर ही दोबारा लगाएं।  मास्क  हाथ से या वॉशिंग मशीन में धोएं। गर्म पानी में मास्क  को भिगोएं। मास्क धोने को लिए खुशबू रहित डिटर्जेंट का यूज करें। धो नहीं पाएं तो अल्कोहल स्प्रै करें। सूखने के बाद ही इसका दोबारा इस्तेमाल करें।


मास्कने का इलाज


इसके लिए डॉक्टर की बताई क्रीम यूज करें। फेसवॉश डॉक्टर की सलाह से ही लें। ज्यादा लेअर वाले मास्क ना पहनें। कॉटन वाले मास्क ही पहनें। अनफिट मास्क पहनने से बचें। पसीना आने पर मास्क बदल दें। वैसलीन, पेट्रोलीयिम जेली लगाएं।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।