Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भाई पर बेनामी संपत्ति को लेकर इंकम टैक्स की कार्रवाई पर मायावती का दलित कार्ड

मायावती ने इसे दलितों, पिछड़ों के खिलाफ कार्रवाई बताया और उल्टे बीजेपी से दो हजार करोड़ रुपए का हिसाब मांग लिया।
अपडेटेड Jul 20, 2019 पर 14:42  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

राजनीति में भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचार के आरोप अब कोई नई बात नहीं रह गई। लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई को जातिवादी रंग दे दिया जाए तो मुद्दा गरम हो ही जाएगा। लगता है कि बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी कुछ ऐसा ही किया है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नोएडा में करीब चार सौ करोड़ रुपए का एक प्लॉट जब्त कर लिया है जो मायावती के भाई आनंद कुमार का बताया गया। मायावती ने इसे दलितों, पिछड़ों के खिलाफ कार्रवाई बताया और उल्टे बीजेपी से दो हजार करोड़ रुपए का हिसाब मांग लिया। सवाल ये है कि क्या आनंद कुमार के खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई हुई है? और क्या मायावती का ये कहना सही है कि बीजेपी दलित वर्ग को आगे बढ़ने से रोक रही है?


यूपी में विधानसभा उपचुनाव से पहले बीएसपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इसका एक ट्रेलर नोएडा में इनकम टैक्स की कार्रवाई में देखने को मिल गया है। बेनामी संपत्ति पर वार करते हुए इनकम टैक्स विभाग ने नोएडा में 7 एकड़ का एक प्लॉट जब्त किया है। ये प्लॉट बीएसपी सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार और उनकी पत्नी विचित्र लता का है। इस प्लॉट की कीमत 400 करोड़ रुपए बताई जा रही है। इनकम टैक्स की कार्रवाई के बाद मायावती भड़क गई हैं। उन्होंने इस पर जाति कार्ड खेल दिया है।


नाराज मायावती ने बीजेपी पर हमला बोल दिया है। उनका आरोप है कि चुनाव के दौरान बीजेपी के खाते में दो हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम आई। बीजेपी ने इससे गरीबों के वोट खरीदे और सत्ता में आई। मायावती बीजेपी से इन पैसों का हिसाब मांग रही हैं।
लेकिन बीजेपी बेनामी संपत्ति और भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर मायावती को घेर रही है। इनकम टैक्स विभाग के बाद एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट यानी ईडी भी कार्रवाई की तैयारी में है। ऐसे में आनंद कुमार पर की गई कार्रवाई की आंच मायावती तक भी पहुंच सकती है। सवाल ये है कि क्या इनकम टैक्स की कार्रवाई पर जाति कार्ड खेलना सही है? अगर संपत्ति बेनामी नहीं है तो उन्हें डरने की क्या जरूरत है? क्या बीजेपी के ऊपर आरोप लगाने से मायावती और उनके भाई के ऊपर लगे दाग धुल जाएंगे?