Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

अब मेडिकल उपकरण बताएंगे सटीक जांच परिणाम

प्रकाशित Fri, 07, 2018 पर 10:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बुखार या बल्ड प्रेशर मापने वाली अलग-अलग मशीनें अब अलग-अलग रिजल्ट नहीं देंगी। सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक अब बीपी मॉनिटर, ग्लूकोमीटर, थर्मामीटर जैसी मशीनों की गुणवत्ता के लिए सरकार मानक तय करने जा रही है। मेडिकल उपकरणों को दवा की श्रेणी में डाला जाएगा। ये नोटिफिकेशन 1 जनवरी 2020 से प्रभावी होगा।


स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देशानुसार अब मेडिकल उपकरणों के लिए अनिवार्य रूप से बीआईएस मानकों का पालन करना होगा। बीपी मॉनिटर, ग्लूकोज मीटर पर पहले से बीआईएस मानक लागू हैं। थर्मामीटर पर भी पहले से बीआईएस मानक लागू है। नेबुलाइजर पर मानक तय होने तक आईएसओ स्टैंडर्ड लागू रहेगा। अब सरकार गुणवत्ता से संबंधित मानक तय करेगी। फिलहाल भारत में इन उपकरणों पर उचित मानक नहीं हैं। नए नियमों के मुताबिक मानक पूरे नहीं करने वाले डिवाइस की बिक्री नहीं होगी। पकड़े जाने पर जुर्माने और सजा का प्रावधान भी है। फिलहाल देश में इन उपकरणों की जरूरत का 85 फीसदी हिस्सा आयात होता है। बाजार में घटिया गुणवत्ता वाले चीनी माल की भरमार है। एक्स-रे, एमआरआई, सिटी स्कैन के लिए भी जल्द नोटिफिकेशन आएगा।