Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मिशन पानी: दिल्ली की सूखी झीलों को उद्धार का इंतजार

प्रकाशित Fri, 12, 2019 पर 12:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

राजधानी दिल्ली कभी झीलों के शहर के तौर पर जानी जाती थी। मानव निर्मित और प्राकृतिक झीलें शहर के जल स्तर को बनाए रखती थीं। लेकिन पिछले 30 साल में शहरीकरण की चपेट में आकर दिल्ली की करीब 300 झीलें सूख गईं।


दक्षिण दिल्ली के बीचो-बीच एक जमीन आज बच्चों के लिए क्रिकेट पिच है। लेकिन बहुत पहले, जब ये पैदा भी नहीं हुए थे, यहां जंगल के बीच एक झील थी। पिछले 30 साल में यहां से सतपुला झील के सारे निशान मिट चुके हैं।


इस सतपुला झील का निर्माण सन 1300 ईस्वी में हुआ था। आस पास कुकुरमुत्ते की तरह उग आए शहर ने वर्षा जल का प्रवाह रोक दिया और झील मर गई। लेकिन उम्मीदें अभी जिंदा हैं। आज जहां यमुना बायोडायवर्सिटी पार्क है, कभी वहां बंजर जमीन थी। डॉ फयाज खुदसर और उनकी टीम ने जमीन को फिर से जिंदगी दी है। दिल्ली में स्कूल, मंदिर, श्मशान, यहां तक की एक बस स्टैंड भी वॉटर बॉडी पर बना हुआ है। लेकिन कुछ लोगों की लगन बताती है कि अभी उम्मीद बाकी है।