Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

मुंबई की 86% से ज्यादा की आबादी में विकसित हुई कोरोना एंटीबॉडी- BMC

मुंबई में 86 फीसदी से ज्यादा आबादी में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित हो चुकी है
अपडेटेड Sep 19, 2021 पर 09:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (BMC)ने कहा है कि मुंबई  में 86 फीसदी से ज्यादा आबादी में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित हो चुकी है। बीएमसी ने मुंबई में 12 अगस्त से 9 सितंबर के बीच 24 वॉर्डो मे 5वां सेरो सर्वे (serosurvey) किया था।


इस सर्वे के आकंड़ों से पता चला है कि मुंबई के झोपड़पट्टी के इलाकों में कोरोना एंटीबॉडी डेवलप होने का प्रतिशत दूसरे इलाकों की तुलना में ज्यादा था। झोपड़पट्टियों में एंटीबॉडी विकसित  होने की दर 87.02 फीसदी पाई गई जबकि दूसरे इलाकों में यह 86.22 फीसदी थी।


सेरो सर्वे में पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थोड़ा अधिक एंबॉडी मिले हैं। मुंबई के 85.07 फीसदी पुरुषों में एंटीबॉडी मिले हैं, जबकि 88.29 फीसदी महिलाओं में एंटीबॉडी मिले हैं।


बीएसमसी ने इस बारे में आए अपने एक बयान में कहा है कि ग्रेटर मुंबई शहर में झुग्गी और गैर झुग्गी बस्तियों में कुल मिलाकर पिछले सर्वेक्षण की तुलना में एंटीबॉडी कहीं ज्यादा है।  BMC ने कहा कि मुंबई द्वीप शहर और उपनगरों में एंटीबॉडी में उल्लेखनीय अंतर नहीं है। बता दें कि  सर्वेक्षण में 8,674 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से 20 फीसदी नमूने स्वास्थ्य कर्मियों के थे।


बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल के निर्देशानुसार मुंबई में वैक्सीन लेनेवाले और वैक्सीन न लेने वाले ऐसे कितने लोग है जो कोरोना वायरस गिरफ्त में आए और उन्हें पता भी नहीं चला इसका पता लगाने के लिए सिरो सर्वे शुरु किया गया। बीएमसी ने 12 अगस्त से 8 सितंबर तक 5वां सिरो सर्वे किया। स्लम का स्टेटस जानने के लिए मनपा अपने 24 वार्डों के डिस्पेंससरी से सैंपल लिया, जबकि नॉन स्लम में कोरोना की स्थिति को जानने के लिए निजी क्लिनिक से सैंपल लिए। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।