Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

'सामान पर बनाये गये देश का नाम और कच्चा माल किस देश का है छपा होना अनिवार्य हो'

इसके पहले कैट ने केंद्र सरकार से मांग की थी कि ई-कॉमर्स पोर्टल पर बिक्री किये जाने वाले सभी उत्पादनों पर उस देश और इसे बनाने के लिए कच्चा माल कहां से लिया गया है उसका उल्लेख होना चाहिए
अपडेटेड Jul 01, 2020 पर 09:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चीनी सामानों का विरोध और तूल पकड़ता दिख रहा है। कभी-कभी ग्राहक न चाहते हुए ऐसे देश का सामान खरीद लेते हैं क्योंकि सामान पर उसकी जानकारी नहीं दी गई होती है। इसको देखते हुए बाजारों और ई-कॉमर्स के बिकने वाले सभी सामानों पर जहां ये बनाये गये हैं उस देश का नाम छापने की मांग की जा रही है।


करीब 7 करोड़ छोटे-बड़े व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स अर्थात कैट ने केंद्र सरकार से मांग की है। कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर मांग की है कि सभी वस्तुओं पर ये जहां बने हैं और इसे बनाने के लिए किस देश से कच्चा माल खरीदा गया है ये जानकारी वस्तुओं पर छापी जानी चाहिए। इस मांग के चलते कैट द्वारा चीनी सामानों के बहिष्कार की मुहिम अधिक तेज होती दिखाई दे रही है।


इसके पहले कैट ने केंद्र सरकार से मांग की थी कि ई-कॉमर्स पोर्टल पर बिक्री किये जाने वाले सभी उत्पादनों पर उस देश और इसे बनाने के लिए कच्चा माल कहां से लिया गया है उसका उल्लेख होना चाहिए और सरकार ने इस मांग को मान लिया था।


कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी. सी. भरतिया ने कहा कि चीन और अन्य देशों से आयात किये गये सामानों पर कुछ लोगों द्वारा मेड इन इंडिया का लेबल लगाकर बेचे जाने की सूचना मिली है। महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक कैट ने गोयल को पत्र लिखकर मांग की है कि ई-कॉमर्स, ऑफलाइन बाजार, बड़े कॉर्पोरेट शोरूम, डायरेक्ट सेलिंग और अन्य किसी भी माध्यम से बिक्री किये जाने वाले सामानों पर संबंधित देश का नाम छापा जाना अनिवार्य होना चाहिए।


भरतिया के अनुसार बाजार में बेचे जाने वाले सामान पर उत्पादन संबंधी जानकारी देनी चाहिए। जिससे ग्राहकों को सामानों की पहचान करते समय कोई  भी कठिनाई नहीं होनी चाहिए। इससे ग्राहकों को पता चलेगा कि जो वस्तु वे खरीद रहे हैं वो पूर्णतः भारत में बनी है या नहीं और इसको बनाने के लिए कच्चा माल किस देश से आया है। ये सभी जानकारी वस्तु पर छपी होने से ग्राहक इत्मिनान से अपनी पसंदीदा वस्तु खरीद पायेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।