Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ज्वेलर्स पर नीरव मोदी फ्रॉड का साया, बिक्री में आई गिरावट

प्रकाशित Fri, 09, 2018 पर 18:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के फ्रॉड की आंच अब पूरे जेम्स और ज्वेलरी इंडस्ट्री पर पड़ने लगी हैं। इस घोटाले के सामने आने के बाद से ही मानो सदा के लिए दावा करने वाले हीरों नें रातों रात अपनी चमक खो दी है। देश में ज्वेलरी की बिक्री में 15-20 फीसदी तक गिरावट देखने को मिली है।


मामा और भांजे की जोड़ी ने पीएनबी को चूना लगाकर अपना बिजनेस खूब चमकाया लेकिन जबसे उनकी करतूत सामने आई है जेम्स और ज्वेलरी इंडस्ट्री का पूरा कारोबार फीका पड़ने लगा है। हीरा कारोबारी कह रहे हैं कि इस हाई प्रोफाइल केस की वजह से लोगों के कॉन्फिडेंस और सेंटिमेंट दोनों ही खराब हुए हैं और इसका असर कारोबार पर दिख रहा है।


ज्वेलर्स की आशंका को खरीदार पुष्ट कर रहे हैं। ज्वेलरी खरीदने में पहले ही लोग सावधानी से काम लेते थे, अब तो और सतर्कता बरत रहे हैं। पहले से ही मंदी की मार झेल रहे हीरा कारोबारियों के लिए आने वाला समय मुश्किलों भरा नजर आ रहा हैं पर जेवेलर्स का मानना हैं कि अगले 6 से 8 महीनों में वो इस मंदी से उबर जाएंगे और बिजनेस सामान्य हो जाएगा।


पीएनबी लोन फ्रॉड की आंच पूरे जेम्स एंड ज्वेलरी इंडस्ट्री पर पड़ने लगी है। बैंक तो लोन देने में सख्ती कर ही रहे हैं। साथ ही ज्वेलरी बिक्री पर भी इसका असर दिखने लगा है। ज्वेलर कह रहे हैं कि इससे उनकी बिक्री पर 20 फीसदी तक का असर पड़ा है।


दरअसल, ग्राहकों को सोने की शुद्धता को लेकर आशंका बनी हुई है जिसका आलम यह है कि अब ग्राहक ज्वेलरी खरीदने से कतरा रहे हैं। इसकी एक बड़ी वजह ये भी है कि जनवरी से अनिवार्य होनी वाली सोने पर हॉलमार्किंग अब तक अनिवार्य नहीं की गई है। देश में 4 लाख से ज्यादा ज्वेलर्स है जिनमें से करीब 21,000 ज्वेलर्स के पास हॉलमार्किंग लाइसेंस है।


बता दें कि, हॉलमार्किंग से नकली सोने की बिक्री रुकेगी और इससे ग्राहकों को शुद्ध सोना मिलेगा। 24 कैरेट सोने के गहनों की भी हॉलमार्किंग होगी। अभी 14, 18, 22 कैरेट गोल्ड ज्वेलरी की हॉलमार्किंग है। सोने की शुद्धता का पहला पैमाना हॉलमार्क का निशान होता है।


हॉलमार्क सोने की शुद्धता की गारंटी है। इसे मानक ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड तय करता है। हॉलमार्क ज्वेलरी पर कुछ नंबर भी लिखे होते हैं। इन्हीं नंबरों से सोने की शुद्धता जांच सकते हैं।


नीरव-मेहुल ने नकली और घटिया हीरे की ब्रिकी करते हुए ग्राहकों को गहनों के फर्जी प्रमाण पत्र भी दिए गए। नीरव मोदी के शोरूम से जांच एजेंसियों ने ज्वेलरी जब्त की है। मेहुल असली और नकली हीरे की मिक्सिंग करता था। इन सभी को देखते हुए ऐसे में अगर आप डायमंड के शौकीन हैं तो आपको बहुत अलर्ट रहकर ही खरीदारी करनी चाहिए। यह भी देखने को मिल रहा है कि हीरे के शौकीन भी अब हीरे को लेकर काफी सतर्क हो गए हैं।