Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ISRO के साथ NASA भी कर रहा है, लैंडर विक्रम से संपर्क बनाने की कोशिश

लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करने के लिए NASA ने Hello मैसेज भेजा है। NASA ने इसकी पुष्टि भी की है।
अपडेटेड Sep 12, 2019 पर 17:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चंद्रयान- 2 का सफर अभी जारी है। अभी इसके सफलता को 95 फीसदी आंका जा रहा है। 100 फीसदी सफलता पाने के लिए Indian Space Research Organisation (ISRO) को लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करना है। संपर्क बनाने के लिए ISRO की टीमें रात दिन लगी हुई हैं। लैंडर विक्रम से संपर्क बनाने के लिए National Aeronautics and Space Administration (NASA) ने भी प्रयास शुरु कर दिए हैं।


अगर ISRO का संपर्क लैंडर विक्रम से हो जाता है। तो फिर लैंडर और रोवर अपना काम शुरु कर देंगे। जिससे भारत को 100 फीसदी सफलता मिल जाएगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मामले में NASA ने भी संपर्क स्थापित करना शुरु कर दिया है। इसके लिए NASA ने Hello का मैसेज भी भेजा है। NASA अपने deep space network ground stations के जरिए NASA का Jet Propulsion labortary ने लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करने के लिए रेडियो फ्रिक्वेंसी भेजी है। NASA के हवाले से इसकी पुष्टि भी हुई है। NASA के इस कदम से ISRO भी सहमत है।


लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित करने में जितनी देरी होगी, उतनी ही संपर्क करने की संभावनाएं कम हो जाएंगी। खबरें आ रही हैं कि 20-21 सितंबर को जब चंद्रमा पर रात होगी, तब विक्रम से दोबारा संपर्क स्थापित करने की रही-सही संभावनाएं भी खत्म हो जाएंगी। ऐसे में NASA भी पुरजोर कोशिश में जुटा हुआ है।


इस मामले में कल जानकारी आई थी कि ISRO का संपर्क लैंडर विक्रम से 2.1 किमी की ऊंचाई पर नहीं बल्कि 335 मीटर पर टूटा था। तस्वीरों के जरिए इस बात की पुष्टि भी हुई थी।


फिलहाल ISRO के 14 दिन के लक्ष्य के मुताबिक, 6 दिन गुजर गए हैं। ऐसे में ISRO के पास अब 8 दिन ही बचे हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।