Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

निफ्टी 16,000 के पार: शंकर शर्मा ने चेताया, निवेशक जोश में होश खोने से बचें

शंकर शर्मा ने निवेशकों को सलाह दी है कि वो अपने सारे अंडे एक ही टोकरी में ना रखें
अपडेटेड Aug 04, 2021 पर 06:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

16,000 का लेवल पार करते हुए आज निफ्टी ने एक नया इतिहास बनाया। यह एक ऐसा माइलस्टोन है जो निवेशकों को ऐसे स्टॉक खरीदने के लिए ललचा सकता है जो कि अभी तक काफी भाग चुके हैं।  ऐसे में निवेशकों को वर्तमान लेवल पर लालची नहीं होना चाहिए। ये बातें फर्स्ट ग्लोब के शंकर शर्मा ने सीएनबीसी टीवी 18 से से हुई अपनी खास बातचीत में कहीं।


शंकर शर्मा ने इस बातचीत में निवेशकों को सलाह दी कि वो अपने चारों तरफ सतर्कता से नजर बनाए रखें और अपने सारे अंडे एक ही टोकरी में ना रखें। अगर किसी स्टॉक या किसी खास सेक्टर ने अब तक काफी अच्छा प्रदर्शन किया है तो भी किसी एक स्टॉक या सेक्टर पर दांव न लगाकर अपने पोर्टफोलियो को अच्छी तरह से डाइवर्सिफाई करें। इसका मतलब ये है कि अलग-अलग सेक्टरों और एसेट क्लासों में क्वालिटी निवेश विकल्पों पर दांव लगाएं।


उन्होंने इस बातचीत में कहा कि जब स्टॉक्स अपने रिकॉर्ड हाई पर ट्रेड कर रहे होते हैं तो उस समय बढ़ती गंगा में डुबकी लगाने के लिए मन ललचाता है। इस बात की संभावना है कि जो स्टॉक अब तक काफी भाग चुके हैं उनमें अब 20 फीसदी तक का करेक्शन स्वाभाविक है। ऐसे में बहती गंगा में डुबकी लगाने की कोशिश में आपको भारी नुकासन उठाना पड़ सकता है। ऐसे में निवेशकों अपने लालच पर नियंत्रण रखना चाहिए और अपने निवेश को अच्छे सेक्टरों और अच्छे स्टॉक्स में डाइवर्सिफाई करना चाहिए।


उन्होंने कहा कि हम यह सिर्फ कह नहीं रहे हैं बल्कि व्यवहार में खुद भी करते हैं। हमने सिर्फ आईटी और फर्मा में ही निवेश नहीं कर रखा है बल्कि दूसरे अच्छे काम कर रहे सेक्टरों में पैसे लगाए हैं।


आईपीओ बाजर पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय बाजारों में आईपीओ की बाढ़ में एक तरीके की क्रांति का परिचायक है। आरआईएल (RIL) का आईपीओ अपने में ऐसा पहला माइल स्टोन था जिसने आम आदमी को इक्विटी मार्केट के करीब लाया था। इसी तरह अब हमें बाजार में नए दौर की टेक (tech) और (quasi-tech)क्वासीटेक कंपनियां लिस्ट होती दिख रही हैं। पहले ऐसी कंपनियां लिस्टिंग के लिए हॉन्गकॉन्ग, सिंगापुर और नैस्डैक का मुंह ताकती थीं। अब ये भारत में ही लिस्ट हो रही हैं। जो भारतीय कैपिटल मार्केट के लिए बहुत अच्छा संकेत है। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय बाजार में इस तरह की कंपनियों के लिए पर्याप्त पूंजी और निवेश की चाहत है। हमें इस बात को लेकर काफी खुशी है कि ये कंपनियां अपने ही घर यानी भारत में लिस्ट हो रही हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.