Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Nifty 15000 के नीचे हुआ बंद, Sensex 400 अंक टूटा, जानें वो कारण जिन्होंने बाजार पर बनाया दबाव

आज सभी सेक्टोरल लाल निशान में बंद हुए है। निफ्टी मेटल इंडेक्स में सबसे ज्यादा 2.7 फीसदी की गिरावट देखने को मिली।
अपडेटेड Mar 06, 2021 पर 13:21  |  स्रोत : Moneycontrol.com

5 मार्च को बाजार में आज लगातार दूसरे दिन गिरावट देखने को मिली और निफ्टी 15000 के नीचे फिसल गया। पिछले 4 कारोबारी सत्रों से दिग्गजों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करने वाले मिड और स्मॉल कैप शेयर भी आज लाल निशान में फिसल गए।


Nifty Midcap 100 इंडेक्स आज 2.15 फीसदी टूटा जबकि Nifty Smallcap 100 इंडेक्स 1.55 फीसदी टूटा। वहीं Nifty Midcap 50 में 2.79 फीसदी की गिरावट रही।


कारोबार के अंत में सेसेंक्स 440.76 अंक यानी 0.87 फीसदी टूटकर 50,405.32 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं निफ्टी 142.65 अंक यानी 0.95 फीसदी गिरकर 14,938.10 के स्तर पर बंद हुआ है।


बाजार पर दबाव बनाने वाले अहम कारण


कमजोर ग्लोबल संकेत


बढ़ते  बॉन्ड यील्ड और डॉलर इंडेक्स में मजबूती की वजह से इन्वेस्टरों के सेंटिमेंट पर मार पड़ी। गुरुवार को यूएस इक्विटी बाजार में 1 से 2 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। इसका असर आज भारतीय बाजारों पर दिखा।


बॉन्ड यील्ड


बॉन्ड यील्ड में लगातार हो रही बढ़ोतरी और डॉलर इंडेक्स में लगातार आ रही मजबूती ने इक्विटी बाजार का खेल बिगाड़ दिया है। जानकारों क कहना है कि इससे  देश से विदेशी संस्थागत निवेशकों का पैसा  बाहर जा सकता है। जिसकी वजह से बाजार में कमजोरी आई।


बॉन्ड यील्ड में बढ़त की वजह से यूएस डॉलर की डिमांड बढ़ी जिससे डॉलर इंडेक्स में दुनिया की दूसरी करेंसी के मुकाबले 0.3 फीसदी की बढ़त आई और ये 91.88 पर पहुंच गया जो पिछले साल के नवंबर का सबसे ऊंचा स्तर है। बता दें कि डॉलर इंडेक्स  91.63  के स्तर पर पहुंच गया था।


तेल की कीमतें 14 महीने की शिखर पर


आज तेल के कीमतों में करीब 2 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली और ये अपने 14 महीने के ऊपरी स्तर पर पहुंच गया। बता दें कि ओपेक प्लस देशों ने अप्रैल में सप्लाई नहीं बढ़ाने का फैसला लिया है। राइटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक ओपेक प्लस देश कोरोना महामारी के बीच डिमांड में और  रिकवरी का इंतजार कर रहे हैं।


भारत में कच्चे तेल की कीमतों में आई हर बढ़त उसकी चिंता बढ़ा देती है। क्योंकि देश दुनिया का सबसे बड़ा ऑयल इंपोर्टर है।


फोकस में रहे ये सेक्टर


आज के कारोबार में सभी सेक्टोरल इंडेक्स लाल निशान में रहें। जिनमें मेटल इंडेक्स सबसे ज्यादा 2.7 फीसदी टूटा। इसी तरह  Nifty Bank, Auto, Financial Services, IT और Pharma इंडेक्स 1 से 1.6 फीसदी टूटकर बंद हुए ।


टेक्निकल व्यू


आज निफ्टी में  1 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली और यह 15000 के अपने साइकोलॉजिकल लेवल से नीचे फिसल गया। यह बाजार में छाई निराशा का संकेत है। आज निफ्टी ने डेली चार्ट पर बियरिश कैडल बनाया।


Deen Dayal Investments के Manish Hathiramani ने कहा कि बाजार में आज  एक और गिरावट का दौर देखने को मिला। हालांकि निफ्टी ने 14,700-14,800 के अपने मीडियम टर्म सपोर्ट लेवल को नहीं तोड़ा है। अगर यह स्तर टूटता है तो निफ्टी नीचे की तरफ 14,400-14,500 की तरफ जा सकता है। इसके उलटे अगर हमें इस स्तर से बाउंस मिलता है तो निफ्टी को पहले 15,300 का स्तर पार करना होगा। इसके बाद फिर निफ्टी  में 15,500-15,600 का स्तर देखने को मिल सकता है। जब तक ऐसा नहीं होता तब तक निफ्टी रेंज बाउंड और चॉपी बना रहेगा।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।