Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भीषण गर्मी की चपेट में उत्तर भारत- दिल्ली में टूटा 7 साल का रिकॉर्ड, फिर भी नहीं बिक रहे AC-फ्रिज

उत्तर भारत में फ्रिज, AC और दूसरे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की खरीदारी पर कोरोना और लॉकडाउन की मार पड़ी है
अपडेटेड May 27, 2020 पर 08:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोरोना और लॉकडाउन की मुसीबतों के बीच गर्मी का प्रकोप भी थम नहीं रहा है। दिल्ली में गर्मी ने पिछले 7 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।  कई इलाकों में तापमान 46 डिग्री के पार पहुंच गया है । अभी तीन चार दिन कोई राहत मिलने के आसार भी नहीं हैं। मौसम विभाग के मुताबिक 29 मई से पहले राहत मिलने के आसार नहीं है।


दिल्ली में दो दिनों के लिए मौसम विभाग का रेड अलर्ट भी जारी कर दिया है।  मौसम विभाग ने शुक्रवार,शनिवार को धूल भरी आंधी का अनुमान जताया है।  हरियाणा, राजस्थान, चंडीगढ़ , MP में भी अलर्ट जारी किया है।  राजस्थान में भी गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़े है। मौसम विभाग ने राजस्थान के लिए रेड अलर्ट जारी हुआ है।


उत्तर भारत में पारा गर्मी के सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है। राजस्थान के दस से ज्यादा शहरों का तापमान 45 डिग्री के पार पहुंच चुका है। जयपुर समेत छह डिविजन में मौसम विभाग ने 29 मई तक गर्मी का रेड अलर्ट जारी किया। पश्चिम राजस्थान में गर्म हवाएं चल रही है। जयपुर में गर्मी से बचाव के लिए डेयरी बूथों पर भीड़ दिखी जहां लोग छाछ पीकर कुछ राहत का इंतजाम करते दिखे।


इधर उत्तर भारत में फ्रिज, AC और दूसरे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की खरीदारी पर कोरोना और लॉकडाउन की मार पड़ी है. दरअसल उत्तर भारत के शहरों में तापमान ने पिछले 7 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है, ऐसे में AC, फ्रिज और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की बिक्री बहुत बढ़ती है लेकिन लॉकडाउन से दुकानें बंद पड़े है, ई-कॉमर्स पर डिस्काउंट पहले की तरह मिलने से खरीदार नजर नहीं आ रहे हैं। 


पिछले साल के मुकाबले एसी फ्रिज की बिक्री में 25-30 फीसदी की कमीआई है। गर्मी बढ़ने पर भी खरीदारी में बढ़त नहीं देखने को मिल रही है। खराब सेंटिमेंट के चलते खरीदारी का  मूड  बिगड़ा है। लॉकडाउन के कारण  ग्राहकों के पास पैसों की भी कमी आई है। छोटे शहरों में ग्राहकों ने बाजारों से किनारा किया है। लागत बढ़ने से ई-कॉमर्स पर भी डिस्काउंट कम हुआ है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।