Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

अब गांवों में डिजिटल क्रांति, गांवों में हो रही है 45% डाटा खपत

माइग्रेंट लेबर के अपने गांव की तरफ रुख करने के बाद डाटा खपत में 30 परसेंट की बढ़ोतरी हुई है।
अपडेटेड Nov 20, 2020 पर 21:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कोविड-19 लॉकडाउन के चलते शहरी इलाकों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में डाटा की खपत में तेज बढ़ोतरी देखने को मिली है। माइग्रेंट लेबर के अपने गांव की तरफ रुख करने के बाद डाटा खपत में 30 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।


कोविड-19 और लॉकडाउन टेलीकॉम कंपनियों के लिए नए अवसर तैयार कर रहा है। कोविड-19 के बाद ग्रामीण इलाकों में डाटा की खपत में 30 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। इसके चलते भारत में ब्रॉडबैंड कनेक्शन की संख्या 75 करोड़ के पार पहुंच गई है।  इसमें से 35 करोड़ ग्राहक ग्रामीण इलाकों से आते हैं और अब डाटा की कुल खपत में से 45 फीसदी ग्रामीण इलाकों में हो रहा है। टेलीकॉम कंपनियां ग्रामीण इलाकों से खूब ग्राहक जोड़ रही हैं। जून से लेकर अगस्त तक के महीने में टेलीकॉम कंपनियों ने 43 लाख ग्राहक ग्रामीण इलाकों से जोड़े हैं । क्रिसिल की रिपोर्ट के मुताबिक डाटा की खपत 25 से 30 फीसदी में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। इसमें गांवों का बड़ा योगदान है।


सरकार के कॉमन सर्विस सेंटर का डाटा खपत लॉकडाउन से पहले 2.7 टेराबाइट डाटा थी जो कि अब बढ़कर 5 टेराबाइट हो गई है । छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में ई-कॉमर्स की भी मांग में बढोतरी हुई है लिहाजा अब कंपनियों को नई ग्रोथ गांवों में ही दिखाई पड़ रही है।


टेलीकॉम कंपनियों का फोकस अभी तक शहरी ग्राहकों पर ही रहा है लेकिन ग्रामीण इलाकों में तेजी से बढ़ती हुई डाटा की खपत कंपनियों को अपना फोकस शिफ्ट करने पर मजबूर कर सकती है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।