Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

इकोनॉमी में सुस्ती को दूर करने के लिए अभी और डोज मुमकिन: निर्मला सीतारामन

देश की इकोनॉमी में सुस्ती को दूर करने के लिए अभी सरकार सुधारों का और डोज दे सकती है।
अपडेटेड Sep 03, 2019 पर 15:25  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश की इकोनॉमी में सुस्ती को दूर करने के लिए अभी सरकार सुधारों का और डोज दे सकती है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने चेन्नई में प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार सभी सेक्टर से बातचीत कर रही है और जहां भी मदद की दरकार है सरकार मदद करेगी। लेकिन प्रेस कॉनफ्रेंस में जब पत्रकारों ने उनसे दो टूक पूछा कि क्या वो स्लोडाउन की बात मानती हैं तो इस बात पर नाराज हो गई। साथ ही इकोनॉमी को लेकर सीधे पैकेज की बात से भी इनकार किया। उन्होंने ये भी कहा कि उनके पास कोई जादू की छड़ी नहीं जिससे घुमाकर वो सारी परेशानी दूर कर देंगी। लेकिन ये कहा कि जिस किसी भी सेक्टर में परेशानी है सरकार की नजर है और जरूरी एक्शन लिए जा रहे हैं।


ऑटो सेक्टर की दिक्कतों को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि BS-4 से BS-6 में जाने के फैसले से ऑटो सेक्टर में दिक्कतें आई लेकिन ये फैसला सरकार का नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से हुआ।


उधर पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने देश की गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी पर सीधे-सीधे हमला बोलते हुए कहा कि सरकार की गलत नीतियों से मंदी आई है। मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को लेकर भी पीएम मोदी को निशाने पर लिया साथ ही ये भी कहा कि हड़बड़ी में लागू किए गए GST से भी इकोनॉमी को नुकसान पहुंचा। मनमोहन सिंह ने कहा कि GDP का 5 फीसदी पर आना बताता है कि इकोनॉमी गहरी मंदी में फंस गई है। मनमोहन सिंह ने नौकरियों को लेकर भी मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि हर सेक्टर में नौकरियां जा रही है। साथ ही किसानों की हालत भी बिगड़ रही है।


मनमोहन सिंह यही नहीं रुके। उन्होंने मोदी सरकार पर बदले की राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार इस एजेंडे से निकले और समझदार लोगों से बात कर इकोनॉमी को इस संकट से निकाले। मनमोहन सिंह ने संस्थाओं की स्वायत्तता को लेकर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने RBI से एक लाख छिहत्तर हजार करोड़ रुपए लिए। लेकिन इस रकम को कहां खर्च किया जाएगा। सरकार के पास इसकी भी योजना नहीं है।


वहीं निर्मला सीतारामन ने इस बारे में कुछ भी बोलने से मना कर दिया। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब उनसे ये सवाल पूछा गया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि मनमोहन सिंह ने जो कहा उसे उन्होंने सुन लिया।


 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।