Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

RBI के रेट कट के बाद OBC, IDBI बैंक और सिंडिकेट बैंक ने घटाई ब्याज दरें

RBI के रेपो रेट में कटौती करने के बाद कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को फायदा देना शुरु कर दिया है।
अपडेटेड Aug 10, 2019 पर 14:39  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार को रेपो रेट में कटौती करने की घोषणा की थी। इस घोषणा के तुंरत बाद भारतीय स्टेट बैंक ने ब्याज दरों में कटौती कर दी थी। अब इस कटौती की लिस्ट में Oriental Bank Of Commerce (OBC) और IDBI बैंक भी शामिल हो गए हैं। इन बैंकों ने ब्याज दरें घटा दी है। इससे लोन सस्ता हो जाएगा।


ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स:-



Oriental Bank Of Commerce (OBC) ने सभी कर्जों पर MCLR में 0.10 फीसदी तक की कटौती करने का फैसला किया है। एक साल का बेंचमार्क 0.10 फीसदी घटकर अब 8.55 फीसदी पर आ गया है। ज्यादातर Consumer Loans जैसे पर्सनल लोन, ऑटो लोन और होम लोन एक साल के MCLR के आधार पर तय होते है। कुल मिलाकर अब ऑटो लोन, होम लोन, और पर्सनल लोन सस्ता हो जाएगा। ये नई दरें 10 अगस्त से लागू होंगी।



IDBI Bank:-    


आईडीबीआई बैंक ने एक साल की अवधि के कर्ज पर MCLR  0.10 फीसदी कम करके 8.95 फीसदी कर दिया है। तीन महीने से तीन साल के लिए ब्याज दरों में 0.05 से 0.15 फीसदी की कटौती की गई है। एक दिन और एक महीने की अवधि के ऋण पर दरों में बदलाव नहीं किया गया है। नई दरें 12 अगस्त से लागू होंगी।




सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank):-



अभी तक MCLR रेट में सबसे ज्यादा कटौती सिंडिकेट बैंक ने की है। सिंडिकेट बैंक ने अपने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड लेंडिंग रेट्स ( MCLR) में 0.25 फीसदी की कटौती कर दी है। ये नए रेट 12 अगस्त यानी सोमवार से लागू होंगे। 


MCLR:-



 बैंकों की लेंडिंग रेट तय करने के लिए एक अलग ही फॉर्मूला है,  जिसे MCLR यानी मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड लेंडिंग रेट (Marginal Cost of Funds based Lending Rate) कहते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो MCLR वो मानक दर है, जिसके तहत ऑटो, पर्सनल और होम लोन के लिए ब्याज दर निर्धारित की जाती है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (@moneycontrolhindi) और Twitter (@MoneycontrolH) पर फॉलो करें.