Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बड़े पदों पर बैठे लोगों को आलोचना सहन करना चाहिए : रघुराम राजन

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद से रतिन रॉय और शमिका रवि को हटाने को लेकर रघुराम राजन ने अपने ब्लॉग में लिखा है।
अपडेटेड Oct 01, 2019 पर 19:15  |  स्रोत : Moneycontrol.com

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का कहना है कि बड़े पदों पर बैठे ताकतवर लोगों को आलोचना सहन करना आना चाहिए। अगर आलोचकों का मुंह दबा दिया जाएगा तो नीतिगत गलतियां हो सकती हैं।


राजन ने कहा कि सिर्फ आलोचना ही एक ऐसा रास्ता है जिसकी वजह से सरकार अपनी नीतियों पर सुधार कर सकती है। अमेरिका के शिकागो विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रघुराम राजन ने सोमवार को अपने ब्लॉग में ये बातें लिखी। उन्होंने लिखा है कि अगर आलोचना करने वाले हर व्यक्ति को सरकारी मशीनरी की ओर से फोन कर चुप कराया जाता रहा या सत्ताधारी पार्टी की ओर से टारगेट किया जाता रहा तो लोग आलोचना करना बंद कर देंगे। उन्होंने कहा कि आलोचना दबाने से सरकार नीतियां बनाने में गलती करती है। आलोचना करने से सरकार अपनी नीतियों में सुधार करती रहती है। आलोचना करने से सरकार के सामने सच रखने का साहस देती है। राजन ने कहा कि जो सरकार आलोचना को दबा देती है, वहां गलतियों के सिवाय कुछ नहीं होता।


राजन ने कहा कि सच को ज्यादा देर तक नहीं झुठलाया जा सकता। उन्होंने कहा कि इतिहास को समझना और जानना निश्चित तौर पर अच्छी बात है, लेकिन इसमें खोए रहना असुरक्षा की भावना पैदा करता है।


दरअसल प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद से रतिन रॉय और शमिका रवि को सरकार ने हटा दिया है, जिससे रघुराम राजन ने अपने ब्लॉग में ये टिप्पणी की। इन दोनों लोगों ने सॉवरेन बांड के जरिए विदेशी बाजार से फंड जुटाने के सरकार के निर्णय की आलोचना की थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।