Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने HDFC में अपनी हिस्सेदारी घटाई, अब स्टेक 1% से भी कम

PBOC ने 31 मार्च 2020 की समाप्त तिमाही के दौरान 1 प्रतिशत से थोड़ा अधिक होल्डिंग बढ़ाई थी
अपडेटेड Jul 11, 2020 पर 23:13  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पीपल्स बैंक ऑफ चाइना (PBOC) ने हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन (HDFC) में अपनी हिस्सेदारी बेची है और अब उनकी हिस्सेदारी 1 प्रतिशत से भी कम बची है। चीन का सेंट्रल बैंक का नाम जून तिमाही के लिए HDFC की शेयरहोल्डिंग का खुलासा करने वाली सूची में शामिल नहीं है। इस सूची से उन शेयर धारकों का पता चलता है जिनकी हिस्सेदारी 1 प्रतिशत से अधिक होती है। PBOC ने 31 मार्च 2020 की समाप्त तिमाही के दौरान 1 प्रतिशत से थोड़ा अधिक होल्डिंग बढ़ाई थी। बताया जाता है कि भारत सरकार इस बात से खुश नहीं थी कि PBOC बिना किसी पूर्व सूचना के अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने में सक्षम है।


एचडीएफसी के उपाध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी केकी मिस्त्री ने बिजनेस स्टैंडर्ड से कहा कि किसी भी अन्य संस्थागत निवेशक की तरह वे भी इक्विटी निवेशक हैं। उन्होंने कहा उनकी कितनी हिस्सेदारी है इसकी स्पष्ट जानकारी मेरे पास नहीं है। लेकिन ये सामान्य बात है इस बारे में कोई भी विवाद होना अनावश्यक है।


बाजार के एक्सपर्ट्स का कहना है कि रिपोर्ट के अनुसार PBOC ने लोगों के रोष से बचने के लिए एचडीएफसी में अपनी हिस्सेदारी घटाई होगी। एचडीएफसी में PBOC की हिस्सेदारी बढ़ाने से पड़ोसी देशों से फॉरेन पोर्टफोलिया इन्वेस्टर्स (FPIs) की जांच में इजाफा हुआ था। इससे ये भय भी बढ़ा था कि चीन कोविड-19 संकट के बाद गिरे हुए स्टॉक की कीमतों का फायदा उठाना चाहता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।