Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

फार्मा कंपनियों को झटका, 328 दवाओं पर रोक

प्रकाशित Wed, 12, 2018 पर 08:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर कभी आपके किसी जानने वाले को सरदर्द हुआ होगा तो जो पहला दवा का नाम आपने दिमाग में आया होगा वो सैरीडॉन होगा या कभी बदन दर्द हुआ होगा तो आपने जिंटाप पी खा ली होगी। बचपन से हम इन दवाओं को अपने घर के फर्स्ट एड बॉक्स में देखते भी आ रहे होंगे लेकिन अब ये दोनों दवाएं आपको नहीं लेनी हैं। क्योंकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने इनको और इन जैसी 6 हजार से अधिक दवाओं को बैन करने वाली है। बताया जा रहा है कि दवा बनाने वाली कंपनियों ने 328 फिक्स डोज कॉम्बिनेशन वाली दवाओं के प्रभाव और दुष्प्रभाव का अध्ययन किए बिना ही इन दवाइयों को बाजार में उतार दिया था जिससे स्वास्थय मंत्रालय नाराज था। इस कदम से सन फार्मा, सिप्ला, वॉकहार्ट और फाइजर जैसी कई फार्मा कंपनियों को तगड़ा झटका लगा है।


इस बैन से 3-4 हजार करोड़ रुपये के दवा कारोबार पर असर पड़ेगा। फाइजर, सिप्ला के 6000 से अधिक ब्रांड को झटका लगा है। सन फार्मा, वॉकहार्ट जैसी कंपनियों को भी इसका झटका लगा है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर डीटीएबी ने 328 दवाओं की जांच की थी उसके बाद ये फैसला लिया गया है। इस बैन का असर सैरिडॉन, एस-प्रॉक्सिवोन, निमिलाइड फेन, जिंटेप पी, एमक्लॉक्स, लिनॉक्स एक्स टी और जैथरिन ए एक्स जैसी दवाओं पर पड़ेगा।