Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बैंकों को भी नवरत्न, महारत्न का दर्जा देने की तैयारी, कामकाज में वित्तीय आजादी देने पर विचार

बहुत जल्द आपको महारत्न और नवरत्न बैंक भी देखने को मिलेंगे।
अपडेटेड Aug 12, 2020 पर 09:42  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बहुत जल्द आपको महारत्न और नवरत्न बैंक भी देखने को मिलेंगे। CNBC-आवाज़ एक्सक्लूसिव जानकारी मिली है कि बैंक समेत दूसरे वित्तीय  संस्थाओं को कामकाज में आजादी देने के लिए सरकार ऐसे ही खास कदम उठाने की तैयारी में है। सूत्रों के मुताबिक बैंकों को भी महारत्न, नवरत्न, मिनी रत्न का दर्जा देने का प्रस्ताव है। इसके साथ ही बैंकों को भी कामकाज की आजादी  मिलेगी। बेंक अब अपने निवेश और दूसरे कारोबारी प्रस्तावों पर खुद फैसला ले पाएंगे। इसके लिए उन्हें सरकार से मंजूरी लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।  सूत्रों के मुताबिक बंकों के कामकाज बेहतर करने के लिए कई प्रस्ताव  तैयार हुए हैं। बता दें कि सरकारी कंपनियों को उनके टर्नओवर और प्रॉफिट के आधार पर  रत्न का दर्जा मिलता है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक बेहतर प्रदर्शन पर बैंक का शेयर (ESOP) देने का प्रस्ताव भी है।


महारत्न और नवरत्न की श्रेणी में उन सरकारी कंपनियों को रखा जाता है जो अनुकरणीय कारोबारी प्रदर्शन करती है। इसके लिए कुछ  मापदंड है, जिस पर चुनी हुई इकाइयों को महारत्न या नवरत्न कहा जाता है। यह उपाधि केवल सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज को दिया जाता जिसे CPSE भी कहा जाता है। कुछ कंपनियों को  मिनीरत्न भी  प्रदान किए गए हैं। अब कुछ इसी तरह के प्रावधान बैंकों के लिए भी करने का प्रस्ताव है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।