Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

PLI स्कीम से बढ़ेंगे रोजगार, 5 साल में प्रोडक्शन में 520 अरब डॉलर की बढ़ोतरी संभव: PM

मोदी ने कहा कि सरकार घरेलू स्तर पर मैन्यूफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिये सुधारों को आगे बढ़ा रही है.
अपडेटेड Mar 06, 2021 पर 09:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट बढ़ाने के मकसद से शुरू की गई PLI स्कीम से उद्योगों में रोजगार के अवसर बढ़ने के साथ-साथ अगले पांच साल के दौरान प्रोडक्शन में 520 अरब डॉलर की बढ़ोतरी होने का अनुमान है। PLI स्कीम को लेकर बजट प्रावधानों पर आयोजित एक वेबिनार को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार घरेलू स्तर पर मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए रिफॉर्म्स को आगे बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि बजट में PLI स्कीम के लिए अगले पांच साल के दौरान दो लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। PLI स्कीम से ऑटो, फार्मा, मेडिकल उपकरण और दवाओं के रॉ मैटेरियल से जुड़ी विदेशी निर्भरता कम होगी। इसके अलावा टेक्सटाइल और फूड प्रोसेसिंग सेक्टर को मिलने वाली PLI से एग्रीकल्चर सेक्टर को फायदा होगा।


पीएलआई योजना को लेकर बजट प्रावधानों पर आयोजित एक वेबिनार को संबोधित करते हुये मोदी ने कहा कि सरकार घरेलू स्तर पर  मैन्यूफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिये सुधारों को आगे बढ़ा रही है। पीएम मोदी ने आगे कहा कि इस योजना का लाभ उठाने वाले उद्योगों में, ऐसा अनुमान है कि मौजूदा कार्यबल का आकार बढकर दोगुना हो जायेगा और आगे भी रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।


प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार देश में लगातार कारोबार सुगमता को बढ़ाने के लिये काम कर रही है और उनके ऊपर नियमों और कानूनों का बोझ कम कर रही है। इसके साथ ही माल भाड़ा, परिवहन और दूसरे साजो सामान पर आने वाली लागत को कम करने के लिये भी कदम उठा रही है।


उन्होंने कहा, प्रोडक्शन  से जुड़ी प्रोत्साहन योजना से दूरसंचार, आटो, औषधि, कपड़ा और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में विनिर्माण को बढ़ावा मिलेगा। पीएलआई योजना का मकसद देश के भीतर विनिर्माण गतिविधियों को बढ़ावा देना और निर्यात में तेजी लाना है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।