Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

Covid-19: PM CARES Fund Trust से इन 3 कामों में खर्च किए जाएंगे 3100 करोड़ रुपये

PM CARES Fund Trust से 2000 करोड़ रुपये वेंटिलेटर 1,000 करोड़ रुपये प्रवासी मजदूरों के लिए और 100 करोड़ रुपये वैक्सीन में खर्च किए जाएंगे
अपडेटेड May 14, 2020 पर 11:49  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश में कोरना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने पीएम केयर्स फंड (PM CARES Fund) से 31000 करोड़ रुपये करोड़ रुपये दिए जाने की घोषणा की गई है। PMO से जारी किए गए बयान के मुताबिक, 3100 करोड़ में से 2000 करोड़ रुपये वेंटिलेटर (Ventilators) खरीदने के लिए इस्तेमाल किए जाएंगे। 1,000 करोड़ रुपये प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers) के कल्याण में खर्च किए जाएंगे और 100 करोड़ रुपये वैक्सीन के डिवलेपमेंट (vaccine development) पर खर्च किए जाएंगे। 


वेंटिलेटर पर खर्च


PM CARES Fund Trust का कहना है कि देश में 2000 करोड़ रुपये वेंटिलेटर खरीदे जाएंगे। ये सभी वेटिंलेटर स्वदेशी होंगे। यानी भारत के बने वेंटिलेटर ही खरीदे जाएंगे। ये सभी वेंटिलेटर कोरना के खिलाफ लड़ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिए जाएंगे।


प्रवासी मजदूरों पर खर्च


प्रवासी मजदूरों और गरीबों के लिए 1000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। यह फंड राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिया जाएगा। ताकि वो जिलाधिकारियों (District Collectors) और निगम के आयुक्तों (Municipal Commissioners) को भेज सकें। इस फंड का इस्तेमाल प्रवासी मजदूरों के रहने, खाने,इलाज और उनके ट्रांसपोर्ट में किया जाएगा। 


देश में बनाई जाएगी वैक्सीन


कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए भारत सरकार वैक्सीन बनाने पर जोर दे रही है। PM CARES Fund Trust से 100 करोड़ रुपये वैक्सीन बनाने के लिए खर्च किए जाएंगे। इस फंड का इस्तेमाल प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार (Principal Scientific Advisor) की निगरानी में किया जाएगा। 


इस पैकेज की घोषणा करते हुए पीएम मोदी ने सभी दानकरने वालों (donors) को धन्यवाद दिया है। जो कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में शामिल हैं। 


बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 27 मार्च को कोरोना वायरस के मामले सामने आने के बाद देश में पीएम केयर फंड की शुरुआत की थी और लोगों से फंड में दान करने की अपील की थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।