Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पीएम आवास योजना को डबल बूस्ट, बढ़ेगी घरों की ब्रिकी

प्रकाशित Wed, 13, 2018 पर 18:29  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर आपकी सालाना आमदनी 18 लाख रुपए तक है तो अब आप सस्ते घरों की योजना में 21500 स्केयर फीट तक का घर खरीद सकते हैं। ऐसे घरों में आपको होम लोन पर ब्याज सब्सिडी के तौर पर 2 लाख 30 हजार की बचत हो सकती है। और ये मुमकिन हुआ है प्रधानमंत्री आवास योजना में घरों की साइज बढ़ने से। नए नियमों में सरकार ने मध्य आय वर्ग यानि एमआईजी घरों की कैटेगरी 1 और कैटगरी 2 के साइज में अच्छी-खासी बढ़ोतरी कर दी है।


अब एमआईजी -1 में 160 वर्गमीटर यानि करीब 1722 वर्गफीट और एमआईजी-2 में 200 वर्गमीटर यानि तकरीबन 2153 वर्गफीट के घर प्रधानमंत्री आवास योजना में शामिल कर लिए गए हैं। इसके अलावा हाल ही आरबीआई ने भी प्रायोरिटी सेक्टर लेंडिंग के तहत घरों के दाम और लोन की सीमा बढ़ा दी है। अब बड़े शहरों में 45 लाख तक के घरों के लिए 35 लाख तक के लोन योजना के दायरे में होंगे और छोटे शहरों में 30 लाख तक के घरों के लिए 25 लाख तक के लोन इस दायरे में आ गए हैं। तो सस्ते घरों में ब्याज सब्सिडी का फायदा कैसे उठाएं, इसी पर बात करेंगे।


इधर, सस्ते घरों को आरबीआई ने बड़ा बूस्ट देने का काम किया है। आरबीआई ने प्रायोरिटी सेक्टर में लोन की सीमा बढ़ाई है और घरों के दाम की सीमा भी बढ़ाई है। ऐसे में कीमत, लोन की सीमा बढ़ने से बड़े शहरों में कम, छोटे शहरों में ज्यादा फायदा मिल सकता है। बड़े शहरों में एलआईजी घरों पर फायदा हो सकता है। मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई में एलआईजी में संभावना है। सरकार के फैसले से ग्रेटर नोएडा, नोएडा, गाजियाबाद, हैदराबाद, चेन्नई, कोलकाता में फायदा मिल सकता है।


सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों के साइज में बड़ा बदलाव करते हुए मिडिल इनकम ग्रुप यानि एमआईजी-I और एमआईजी-II कैटेगरी में घरों का कार्पेट एरिया बढ़ा दिया गया है। एमआईजी-I में एरिया 120 वर्गमीटर से बढ़ाकर 160 वर्गमीटर कर दिया गया है। वहीं, एमआईजी-II में घरों का एरिया 150 वर्गमीटर से बढ़ाकर 200 वर्गमीटर कर दिया गया है। एमआईजी-I में सालाना 6 से 12 लाख तक कमाने वाले वालों को और एमआईजी-II में 12 से 18 लाख तक कमाने वालों को घर के लिए लोन मिलता है।


इन बदलावों से मिडिल क्लास को अब सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा। गौरतलब है कि एमआईजी-I में 6-12 लाख रुपये कमाई वालों को लोन पात्रता होती है। वहीं, एमआईजी-II में 12-18 लाख रुपये कमाई वालों को लोन पात्रता होती है। एमआईजी-I में ग्राहक को 4 फीसदी की लोन सब्सिडी मिलती है। एमआईजी-II में ग्राहक को 3 फीसदी की लोन सब्सिडी मिलती है। एमआईजी-I में ग्राहक को 235068 का सीधा फायदा मिलेगा। वहीं, एमआईजी-II में ग्राहक को 230156 रुपये का सीधा फायदा मिलेगा।