Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

लाल किले से खींचा पीएम मोदी ने अर्थव्यवस्था का खाका

देश की इकोनॉमी को सुधारने के लिए पीएम मोदी ने जहां वीर जवानों की सराहना की, वहीं इकोनॉमी बढ़ाने की बात करने से भी नहीं चूके।
अपडेटेड Aug 16, 2019 पर 08:55  |  स्रोत : Moneycontrol.com

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पीएम मोदी के मंच पर भाषण देने का इंतजार पूरा देश कर रहा था। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत रक्षाबंधन की बधाई देकर की।
इस पूरे भाषण में उन्होंने वीरों की वीरगाथा का जिक्र तो किया ही साथ ही इकोनॉमी की भी चर्चा की। और सरकार की योजना का खुलासा किया ।



आइये जानते हैं इकोनॉमी को सुधारने के लिए मोदी ने कौन से दिए हैं नए प्लान




ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंक (Ease of Doing Business Rank) 



अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए पीएम मोदी ने कहा कि हमारा टारगेट है कि Ease of Doing Business Rank  में टॉप 50 पर स्थान बनाना है। इसके लिए सरकार तेजी से काम कर रही है। साल 2014 में देश 142वें नंबर में था। जबकि इस साल 190 देशों में 77वें स्थान पर आ गया है। हमने इस पर काफी काम किए हैं, लेकिन अभी और रिफॉर्म की जरूरत है। आज पूरी दुनिया को भरोसा हो गया है कि भारत ईज ऑफ डूइंग में इतनी बड़ी छलांग लगाई है।



महंगाई को नियंत्रण में रखा



पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने महंगाई पर नियंत्रण रख कर विकास को आगे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में रफ्तार लाने के लिए GST लेकर आये। साथ ही Insolvency and Bankruptcy Code (IBC) में सुधार किया।




डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा



इकोनॉमी को रफ्तार देने के लिए पीएम मोदी ने डिजिटल को बढ़ावा देने की बात कही है। उन्होंने गांव, शहरों के दुकानदारों को साफ तौर कहा कि डिजिटल को हां और नकदी को न कहना शुरु कर दें।


5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी



मोदी सरकार 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी का जिक्र पहले भी कई बार कर चुकी है। लेकिन इस बार स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर उन्होंने 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी को हासिल करने के लिए संकल्प को दोहराया है। उन्होंने कहा कि 2014 के पहले इकोनॉमी 2 ट्रिलियन डॉलर थी। और 2014-19 में हमारी इकोनॉमी 2-3 ट्रिलियन डॉलर हो गई है। लिहाजा अगले 5 साल में 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हासिल करना लक्ष्य है।


इन्फ्रास्ट्रक्चर


इन्फ्रास्ट्रक्चर पर पीएम मोदी ने 100 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का एलान किया है। साफ तौर पर कहा है कि हमें अपनी तकनीकी आधुनिक रखनी होगी। जिसमें अस्पताल, शिक्षा, सेना के हथियार आदि सभी चीजें आधुनिक तकनीकी से लैस होंगी।


हर जिला बने एक्सपोर्ट हब



पीएम मोदी का मानना है कि हर जिले के पास कोई न कोई खासियत होती है। कहीं स्टील फेमस है, तो कहीं पीतल, तो कहीं साड़ी। ऐसे में हर जिले में एक एक्सपोर्ट हब बनेगा। ताकि वहां की बनी हुई वस्तुओं को दुनिया के बाजार में लाया जा सके। पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा है कि मैं चाहता हूं कि देश का किसान एक्सपोर्टर बने।




लोकल प्रोडक्स को वरीयता



पीएम मोदी ने कहा कि जब भी खरीदारी करें तो स्थानीय सामान को खरीदने के लिए तरजीह दें। इससे देश, शहर, गांव का विकास होता है। मेड इन इंडिया के मिशन को आगे बढ़ाने की बात कही है।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।