Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

चीन को लेकर पीएम मोदी अच्छे मूड में नहीं: Donald Trump

यूएस प्रसिडेंट डॉनाल़्ड ट्रंप ने इस बातचीत में कहा कि भारत और चायना के बीच चल रहे विवाद को लेकर पीएम मोदी अच्छे मूड़ में नहीं है।
अपडेटेड May 29, 2020 पर 14:51  |  स्रोत : Moneycontrol.com

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है चीन से सीमा विवाद को लेकर PM मोदी अच्छे मूड में नहीं हैं। भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को सुलझाने के लिए मध्यस्थता की की अपनी बात को दोहराते हुए प्रेसीडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को लेकर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है। US प्रेसिडेंट डोनाल्ड ने गुरुवार को इस बातचीत में कहा कि भारत और चाइना के बीच चल रहे विवाद को लेकर पीएम मोदी अच्छे मूड में नहीं है। व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में रिपोर्टरों से बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि भारत और चीन के बीच बड़ा संघर्ष चल रहा है।


इस बातचीत में उन्होंने आगे कहा कि वे भारत में मुझे पसंद करते है। मुझे लगता है कि भारत ने मुझे उससे कहीं ज्यादा लोग मुझे पसंद करते है जितना अमेरिका में मीडिया मुझे पसंद करती है और मैं पीएम मोदी को पसंद करता हूं। वह एक शानदार इंसान हैं।


जब यूएस प्रसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप से पूछा गया कि क्या उनको भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे तनाव से चिंता है तो उन्होंने कहा दोनों बड़ी आबादी वाले देश हैं। भारत और चीन दोनों के पास शक्तिशाली सेना है। भारत इस विवाद से खुश नहीं है और संभवत: चाइना भी खुश नहीं है।


बता दें कि एक दिन पहले ही प्रसिडेंट डॉनाल़्ड ट्रंप ने कहा था कि वह भारत और चीन के बीच विवाद में  मध्यस्थता करने को तैयार है। मध्यस्थता के अपने प्रस्ताव से संबंधित एक प्रश्न का जबाव देते हुए ट्रंप ने कहा है कि अगर उनसे मध्यस्थता की मांग की जाती है तो वह इसके लिए तैयार हैं।


भारत ने बुधवार को कहा था कि वह चीन के साथ सीमा विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने के लिए चाइना के साथ बातचीत कर रहा है।


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा था कि दोनों देशों ने इस समस्या के समाधान के लिए मिलिट्री और डिप्लोमेटिक दोनों स्तरों पर एक मैकेनिजम बना रखा है और हम दोनों देशों के बीच सीमा समस्या को शांति पूर्ण बातचीत के जरिए सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।


गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग त्सो, गलवान घाटी, देमचौक और दौलत बेग ओल्डी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच पिछले तीन सप्ताह से तनावपूर्ण गतिरोध जारी है।


वहीं चाइना ने  ट्रंप के इस बयान पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालांकि इसके पहले आए ट्रंप के मध्यस्थता प्रस्ताव पर चीन ने कहा था कि भारत और चीन को अपने ताजा विवाद सुलझाने के लिए अमेरिकी मध्यस्थता की जरुरत नहीं है। चीन के सरकारी अखबार ने 28 मई को प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि दोनों देशों की सरकारें 2017 में आपसी समझ और मिलेजुले प्रयास के जरिए डोकलाम विवाद हल कर चुकी हैं।


भारत -चीन ताजा विवाद आपसी बातचीत के जरिए सुलझा सकते हैं। दोनों देशों को अमेरिका से सावधान रहना चाहिए जो क्षेत्रीय शांति और अस्थिरता में बाधा डालने का कोई मौका नहीं चूकता।




सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।