Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जून 2020 मे मिलेगा पीएम मोदी को नया विमान, मिसाइल हमले को करेगा नाकाम

देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति को लंबी दूरी के लिए साल 2020 तक नए विमान मिलने वाले हैं।
अपडेटेड Oct 07, 2019 पर 08:33  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अमेरिकी राष्ट्रपति के विमान एयरफोर्स वन की तर्ज पर देश के तीन सर्वोच्च व्यक्तियों के लिए नए विमान शामिल किए जाएंगे। ये नए विमान मिसाइल हमले को भी नाकाम करने में सक्षम होंगे। प्रधानमंत्री के प्रयोग के लिए लंबी दूरी के दो बोइंग 777 विमान एयर इंडिया वन का बेड़ा जून 2020 तक भारत आ जाएगा। इस विमान में एंटी मिसाइल तकनीक लगी होगी।


इन विमानों को केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप-राष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू द्वारा प्रयोग किया जाएगा। देश के तीनों सर्वोच्च व्यक्ति फिलहाल एयर इंडिया के बोइंग बी 747 विमानों से उड़ान भरते हैं। इन विमानों को उड़ान के बाद कमर्शियल में बदल दिया जाता है। जब इनकी आवश्यकता होती है तो फिर से इन्हें एयर इंडिया वन में बदल दिया जाता है।


दक्षिण ब्लॉक के अधिकारियों के अनुसार, अमेरिका के डलास में बोइंग सर्विस सेंटर में configure किए जा रहे हैं।  विमान सुरक्षा उपायों के मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति के विमान के बराबर होंगे। ये ईंधन भरने के लिए जमीन में बिना लैंड किए अमेरिका और भारत के बीच उड़ान भर सकते हैं। कहने का मतलब ये है कि इन विमानों में हवा में ईंधन भरने की सुविधा भी मौजूद होगी।


मौजूदा समय में एयर इंडिया से चार्टर्ड बोइंग बी 747 विमान तकरीबन दो दशक से अधिक पुराने हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पिछले महीने अपने तीन देशों के दौरे पर जिस विमान में उड़ान भर रहे थे, वो 26 साल से सर्विस में है। साउथ ब्लॉक के अधिकारियों ने कहा कि नए विमानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ऑफिस स्पेस, मीटिंग रूम और नई टेक्नॉलजी से लैस होगें।


इनमें अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन में इस्तेमाल किया गया Self-Protection Suites (SPS) भी होगा। इस सुरक्षा प्रणाली में बड़े विमान इन्फ्रारेड काउंटरमेजर्स, इंटीग्रेटेड डिफेन्सिव इलेक्ट्रॉनिक युद्ध सूट और काउंटर-मेजर वितरण सिस्टम शामिल है। ये दुश्मन के रडार को जाम कर सकते हैं और उनके मिसाइलों का रास्ता भी बदल सकते हैं।


दरअसल, इस साल फरवरी में अमेरिका इस विमान के लिए दो मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेचने पर सहमत हो गया था। एंटी मिसाइल तकनीक को एयर इंडिया वन में लगाने के लिए करीब 19 करोड़ डॉलर का समझौता हुआ था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।
पूरी खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें