Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

5G स्पेक्ट्रम रिजर्व प्राइस घटाने की तैयारी, PM की बनाई टास्क फोर्स ने की सिफारिश

टेलीकॉम सेक्टर में नया विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए सरकार 5G स्पेक्ट्रम का रिजर्व प्राइस घटाने की तैयारी कर रही है।
अपडेटेड May 12, 2020 पर 18:38  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टेलीकॉम सेक्टर में नया विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए सरकार 5G स्पेक्ट्रम का रिजर्व प्राइस घटाने की तैयारी कर रही है। सरकार को उम्मीद है कि रिजर्व प्राइस घटाने से ज्यादा कंपनियां नीलामी में हिस्सा लेंगी। जिससे सरकार को रिवेन्यू तो मिलेगा ही साथ ही टेलीकॉम सेक्टर में निवेश काफी तेजी से होगा।


बता दें कि विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए जल्द ही 5G स्पेक्ट्रम का रिजर्व प्राइस घटाने पर फैसला लिया जा सकता है।  भारत में पूरी दुनिया में सबसे महंगा 5G रिजर्व प्राइस है। भारत में 5G स्पेक्ट्रम रिजर्व प्राइस 492 करोड़/MHz है। PM की बनाई टास्क फोर्स भी कीमत घटाने की सिफारिश कर रही है।


गौरतलब हो कि  प्राइस घटाने की मांग टेलीकॉम कंपनियां कर चुकी हैं।  स्पेक्ट्रम का रिजर्व प्राइस 30-40% तक घट सकता है। सरका को उम्मीद है कि  प्राइस घटने से ज्यादा कंपनियां नीलामी में हिस्सा लेगी। 5G में नया निवेश देश, टेलीकॉम सेक्टर के लिए फायदेमंद होगा। रिजर्व प्राइस घटाने के लिए DoT ने प्रेजेंटेशन दिया  है। पिछले हफ्ते वित्त मंत्रालय को प्रेजेंटेशन दिया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।